कर्नाटक संकट : बागी विधायकों को कड़ी चेतावनी या पक्ष में वोट या फिर......

कर्नाटक संकट : बागी विधायकों को कड़ी चेतावनी या पक्ष में वोट या फिर......

कांग्रेस ने कर्नाटक में चल रही सियासी उठा-पटक के बीच अपने बागी विधायकों को चेताया है. कांग्रेस नेता डीके शिवकुमार ने कहा है. कि अगर विधायकों ने विश्वास मत के पक्ष में वोट नहीं दिया तो उनकी सदस्यता खत्म हो जाएगी. हालांकि उन्होंने यह विश्वास भी जताया है कि उनके विधायक सरकार को बचाने में पार्टी का पूरा साथ देंगे. डीके शिवकुमार ने रविवार को पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि हमारे विधायक कानून जानते हैं तो अगर उन्होंने विश्वास मत के खिलाफ वोट किया तो वह अपनी सदस्यता खो देंगे. कांग्रेस पार्टी उनकी मांगों का निपटारा करने को तैयार है. वैसे हमें संकेत मिल रहे हैं कि विधायक हमारी सरकार बचा लेंगे. आइए जानते है पूरी जानकारी विस्तार से 

उन्नाव में 'जय श्री राम' के नारे से नहीं, बल्कि इस वजह से शुरू हुआ था विवाद

अपने बयान मे उन्होने आगे कहा कि मुझे अपने विधायकों पर पूरा विश्वास है. उनको कांग्रेस पार्टी से चुना गया है और वो बहुत समय से पार्टी में हैं. चुनावों में उन्होंने अपने क्षेत्र से शेर की तरह लड़ाई लड़ी है.कर्नाटक के भाजपा अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने एचडी कुमारस्वामी से तुरंत इस्तीफा देने को कहा है. उन्होंने कहा है कि जेडीएस-कांग्रेस गठबंधन के 15 से ज्यादा विधायक और 2 स्वतंत्र मंत्री इस्तीफा दे चुके हैं और उन्होंने भाजपा को समर्थन देने की बात कही है इसलिए कुमारस्वामी को पद से इस्तीफा दे देना चाहिए.

पूर्व पुलिस आयुक्त को उम्मीद, 'बाटला हाउस' तथ्यों पर आधारित

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार कर्नाटक विधानसभा अध्यक्ष (स्पीकर) द्वारा इस्तीफे स्वीकार नहीं किए जाने के खिलाफ कांग्रेस-जदएस गठबंधन के पांच और बागी विधायक आनंद सिंह, के. सुधाकर, एमटीबी नागराज, मुनिरत्न और रोशन बेग सुप्रीम कोर्ट पहुंच गए हैं. उन्होंने कोर्ट में पहले से दायर 10 अन्य बागी विधायकों की याचिका में उन्हें भी पक्षकार बनाने की मांग की है. उनकी अर्जी पर मंगलवार को सुनवाई होनी है. वहीं, सरकार से समर्थन वापस लेकर भाजपा के पाले में चले गए दोनों निर्दलीय विधायकों एच. नागेश और आर. शंकर ने विस अध्यक्ष को पत्र लिखकर आग्रह किया है कि सदन में उनके बैठने का प्रबंध विपक्षी सदस्यों के साथ किया जाए. विस का मानसून सत्र शुक्रवार से शुरू हुआ है और मुंबई में होने की वजह से दोनों विधायक पहले दिन सदन से अनुपस्थित थे. प्रदेश भाजपा अध्यक्ष बीएस येद्दयुरप्पा ने शनिवार को कहा, मुख्यमंत्री कुमारस्वामी को सोमवार को ही विश्वास मत हासिल करना चाहिए. वह कार्यमंत्रणा समिति में इस बारे में सुझाव देने वाले है.

एक्शन मोड में यूपी पुलिस, पिछले 24 घंटों में किए 4 एनकाउंटर

कांग्रेस ने बागी विधायकों को मनाने की कोशिशें मुख्यमंत्री कुमारस्वामी की ओर से विश्वास प्रस्ताव पेश करने की घोषणा के बाद तेज कर दी हैं. एक विधायक एमटीबी नागराज ने इस्तीफा वापसी के संकेत देते हुए कहा, पूर्व मुख्यमंत्री सिद्दरमैया और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष दिनेश गुंडू राव ने उनसे इस्तीफा वापस लेने का अनुरोध किया है. वह इस बारे में विधायक के. सुधाकर से भी बात करेंगे. सरकार के संकटमोचक माने जाने वाले कांग्रेस नेता और राज्य के जल संसाधन मंत्री डीके शिवकुमार शनिवार सुबह पांच बजे ही नागराज घर पहुंच गए थे.  वहां करीब साढ़े चार घंटे रहे. उसके बाद उपमुख्यमंत्री जी. परमेश्वर भी उन्हें मनाने पहुंचे थे. मुख्यमंत्री कुमारस्वामी भी चार बागी विधायकों को मनाने का पूरा प्रयास कर रहे है.

पुलिस की परीक्षा पास न कर सका तो करने लगा ऐसा काम

पुलिस पर किया पथराव और फायरिंग, छुड़ा ले गए गोकशी का आरोपी

हथियारों संग डांस करने वाले चैंपियन विधायक के लाइसेंस रद्द, जांच शुरू