भारतीय दूतावास पर आतंकी हमले का प्लान बना रहा था ये संगठन

Mar 25 2020 05:58 PM
भारतीय दूतावास पर आतंकी हमले का प्लान बना रहा था ये संगठन

इस समय पूरी दुनिया कोरोना वायरस से त्रस्त है और इससे निबटने की तैयारियों में व्यस्त है वही अफगानिस्तान स्थित आतंकी संगठन अपनी दूसरी ही साजिशों में लगे हुए हैं.बुधवार को काबुल स्थित सबसे प्रसिद्ध धर्मशाला गुरुद्वारे पर जबरदस्त आतंकी हमला किया गया जिसमें खबर लिखने तक 11 लोगों के हताहत होने और 11 लोगों के घायल होने की सूचना है. हमले की जिम्मेदारी आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट (आइएसआइएस) ने ली है लेकिन भारतीय सुरक्षा एजेंसियों को शक पाकिस्तान के समर्थन से चलने वाले आतंकी संगठन हक्कानी नेटवर्क पर है. भारतीय एजेंसियों को पहले से इस बारे में सूचना थी कि काबुल स्थित भारतीय दूतावास से जुडे कार्यालयों पर हमला करने की कोशिश हो सकती है. 

कोरोना वायरस : भाजपा ने कांग्रेस के इस आरोप को बताया गलत

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि भारत सरकार ने इस हमले की कड़े शब्दों में निंदा की है और इसे एक कायरतापूर्ण हमला करार दिया है और हमले में मारे गये लोगों व घायलों के प्रति अपनी संवेदना जताई है. विदेश मंत्रालय की तरफ से जारी प्रेस विज्ञप्ति के मुताबिक भारत अफगानिस्तान स्थिति हिंदुओं व सिखों को हरसंभव मदद करेगा. भारत ने कहा है जब पूरी दुनिया में कोरोनावायरस महामारी का संकट फैल रहा है तब अफगानिस्तान में अल्पसंख्यकों के धार्मिक स्थलों पर इस तरह का कायराना हमला बताता है कि इसे अंजाम देने वालों और उन्हें मदद करने वालों कितने शैतानी प्रवृति के . भारत ने हमलावरों से लोहा लेने वाले अफगानिस्तान की सुरक्षा एजेंसियों के कर्मियों की तारीफ की है जो बहादूरी से अफगानिस्तान व वहां के लोगों की सुरक्षा कर रहे हैं. भारत ने एक बार अफगानिस्तान की सरकार के प्रति भरोसा जताया है जो वहां शांति व स्थायित्व कायम करने के लिए लगातार प्रत्यनशील है. 

CORONAVIRUS: पानीपत में मिला कोरोना का तीसरा संदिग्ध

माना जा रहा है कि इस्लामिक संगठन (आइएसआइएस) ने इस हमले की जिम्मेदारी ली है. लेकिन भारतीय खुफिया एजेंसियों को शक है कि इसके पीछे पाकिस्तान की एजेंसियों का हाथ है जो नए शांति समझौते के बाद वहां अपनी ताकत बढ़ाने में जुटे हैं. अमेरिका और तालिबान के बीच शांति समझौता होने के बाद यह दूसरा हमला है जो परोक्ष तौर पर भारत को डराने के लिए किया गया है. भारतीय सुरक्षा एजेंसियों को इस बारे में सूचना मिल रही थी कि पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आइएसआइ के समर्थन से चलने वाला आतंकी संगठन हक्कानी नेटवर्क भारतीय दूतावास या अन्य भारतीय अधिकारियों पर हमला कर सकता है.

सांसद निधि के इस्तेमाल में हुआ परिवर्तन, जाने क्यों

पंजाब में बढ़ी कोरोना के मरीजों की संख्या

केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने लॉकडाउन पर बोली ये बात