लोकसभा चुनाव: दूसरे चरण का मतदान सुरक्षाबलों के लिए चुनौती, नक्सलियों के इलाके में होगी वोटिंग

लोकसभा चुनाव: दूसरे चरण का मतदान सुरक्षाबलों के लिए चुनौती, नक्सलियों के इलाके में होगी वोटिंग

रायपुर : 2019 लोकसभा चुनावों के प्रथम चरण में छत्तीसगढ़ की बस्तर लोकसभा सीट पर तो शांतिपूर्ण मतदान हो गया, किन्तु अब दूसरे चरण में तीन लोकसभा सीटों पर वोटिंग कराना सुरक्षाबलों के लिए बड़ी चुनौती साबित होने वाला है. दूसरे चरण के तीनों संसदीय क्षेत्र नक्सल प्रभावित हैं, ऐसे में सुरक्षाबलों को आशंका है कि वोटिंग की प्रक्रिया को प्रभावित करने के लिए नक्सली कोई बड़ी वारदात कर सकते हैं. 

दूसरे प्रदेश की सीमावर्ती पर भारी मात्रा में केंद्रीय सुरक्षा बल को तैनात कर दिया गया है. राजनांदगांव लोकसभा सीट की सीमा महाराष्ट्र और मध्यप्रदेश से सटी हुई है. महाराष्ट्र से गढ़चिरोली से लगे मोहलामानपुर का क्षेत्र सबसे अधिक नक्सली प्रभावित है. इसी क्षेत्र के 2009 में नक्सलियों ने एसपी वीके चौबे समेत 29 जवानों को शहीद कर दिया था. वहीं अगर कांकेर की बात कांकेर करें तो यहां ओडिशा से लगे इस क्षेत्र में नक्सलियों का प्रभाव है. 

9 दिन पहले नक्सलियों ने कांकेर में BSF जवानों पर हमला किया था, जिसमें चार जवान शहीद हो गए थे. वहीं, महासमुन्द का बड़ा इलाका ओड़िशा से सटा हुआ है, गरियाबंद नक्सल प्रभावित इलाका है, गरियाबंद में नक्सलियों की सक्रियता बनी रहती है. इस क्षेत्र में नक्सलियों ने नेताओ की हत्या का भी षड्यंत्र किया था. सभी हालातों को ध्यान में रखते हुए सुरक्षाबलों ने तलाशी अभियान तेज कर दिया है. 

खबरें और भी:-

कल कठुआ में जनसभा को संबोधित करेंगे पीएम मोदी, तैयारियों में जुटे कार्यकर्ता

कांग्रेस ने जारी की 7 और उम्मीदवार की सूची, गुना से ज्योतिरादित्य सिंधिया मैदान में

कर्नाटक में बोले पीएम मोदी, कहा- आज आपके विश्वास से अंतरिक्ष में भी बज रहा भारत का डंका