राजस्थान में माफियों की मनमानी, बालू के लिए उखाड़ डाले सैकड़ों पेड़

Jul 21 2019 01:07 PM
राजस्थान में माफियों की मनमानी, बालू के लिए उखाड़ डाले सैकड़ों पेड़

जालोर: राजस्थान के जालोर जिले के चितलवाना उपखण्ड क्षेत्र से गुजर रही नर्मदा मुख्य नहर पर वीरावा गांव की सीमा पर वन विभाग की तरफ से लगाए गए सैंकड़ो पौधे भारतमाला परियोजना के तहत बन रही सड़क के ठेकेदार ने उखाड़ दिए है. किन्तु जिम्मेदार अधिकारी बेसुध है. दरअसल गांधव गांव की पुलिया से साता गांव तक भारतमाला परियोजना NH 925 A सड़क बनाई जा रही है.

इसी सड़क में कई स्थानों पर ढ़लान है और उस ढ़लान को समतल करने के लिए रेत की जरुरत है, तो ठेकेदार की निगाह नर्मदा नहर के किनारे जमीन पर पड़ी है. नर्मदा नहर के किनारे पड़ी जमीन वन विभाग की तरफ से लाखों पौधे लगाए गए, किन्तु ठेकेदार ने अपनी भरपाई के लिए वहां से रेत उठानी आरंभ कर दी. वहीं रेत के साथ ही सैकड़ो पौधे भी उखाड़ दिए गए, किन्तु जिम्मेदार अधिकारी बेखबर है.

जब ग्रामीणों ने इसका विरोध किया तो ठेकेदार ने साफ़ तौर से कह दिया है कि हमने विभाग से इजाजत ले रखी है, किन्तु जब विभाग के अधिकारियों से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि हमने रेत उठाने जैसी कोई इजाजत नही दी है. इसका मतलब सपष्ट है कि दोनों विभागों की आंखों में धूल झोंककर ठेकेदार ने अपने स्वार्थ के लिए अभी नियम कायदों को ताक पर रख दिया है.

मिलिए पेड़ वाले मास्टरजी से, 2010 से रोज़ाना लगा रहे हैं एक पेड़

लालू यादव पर भड़के सुशिल मोदी, कहा- राज्य का कबाड़ा कर दिया, अब जेल से कर रहे सियासत

आडवाणी और सुषमा स्वराज ने दी शीला दीक्षित को श्रद्धांजलि, 2.30 बजे होगा अंतिम संस्कार