दुष्कर्म को लेकर सख्त खट्टर सरकार, पुलिस वाले भी होंगे निलंबित

Aug 04 2018 05:35 PM
दुष्कर्म को लेकर सख्त खट्टर सरकार, पुलिस वाले भी होंगे निलंबित

चंडीगढ़: महिलाओं और बच्चों के प्रति बढ़ते आपराधिक मामलों पर शिकंजा कसने के लिए हरियाणा की खट्टर सरकार ने एक नई मुहीम चलाई है. इसके तहत जो पुलिस अफसर, रसूखदारों और दबंगों को बचाने के चलते  दुष्कर्म और छेड़छाड़ की शिकायतें दर्ज नहीं करते हैं, उन्हें अब सरकार द्वारा निलंबित किया जाएगा. हरियाणा के पुलिस महानिदेशक बीएस संधू ने एक बैठक में रेंज आइजी, पुलिस आयुक्त और पुलिस अधीक्षकों को इसके लिए निर्देश दिए हैं कि महिलाओं को मामला दर्ज करवाने में कोई दिक्कत नहीं आना चाहिए.

खट्टर सरकार की बड़ी कामयाबी, सरकारी स्कूलों में विद्यार्थी बढ़े

ये सब राज्य के मुखयमंत्री मनोहर लाला खट्टर के नेतृत्व में हो रहा है. मुख्यमंत्री की घोषणा के अनुरूप प्रदेश में दुष्कर्म के मामलों में दोषी लोगों को अब हथियार व ड्राइविंग लाइसेंस नहीं मिलेंगे, यही नहीं उनकी वृद्धावस्था और दिव्यांग पेंशन जैसी सुविधाएं भी नहीं दी जाएंगी. डीजीपी ने कहा कि मुख्यमंत्री की घोषणा के अनुसार दुष्कर्म मामले की जांच 1 महीने के अंदर और छेड़छाड़ की जांच 15 दिनों में पूर्ण हो जानी चाहिए.

हरियाणा में गाय चोरी के शक में युवक की पीट-पीटकर हत्या

उन्होंने कहा कि अगर इसमें किसी भी तरह की ढिलाई बरती जाती है तो विभागीय कार्यवाही अमल में लाई जाएगी. डीजीपी ने अधिकारीयों को स्पष्ट रूप से निर्देश दिए हैं कि महिलाओं और बच्चों की सुरक्षा सर्वोपरि है. 

ख़बरें और भी:-

पतंजलि का स्वदेशी समृद्धि कार्ड, मिलेगा 5 लाख का बीमा

देश की राजनीति में TMC काला अध्याय : बाबुल

अब्दुल्ला के घर घुसे घुसपैठिए को मारी गोली, पिता ने दिया आंखें नम करने वाला बयान

 

 

?