हिन्दू होने के बावजूद करूणानिधि को दफनाया क्यों जा रहा है ?

हिन्दू होने के बावजूद करूणानिधि को दफनाया क्यों जा रहा है ?

चेन्नई। DMK के वरिष्ठ नेता और तमिलनाडु के पूर्व मुख्यमंत्री एम् करूणानिधि का 7 अगस्त को शाम सात बजे चेन्नई के कावेरी हॉस्पिटल में निधन हो गया है। उनके निधन के बाद से पूरा चेन्नई शोक में डूबा हुआ है। उनकी मौत की खबर मिलते ही हॉस्पिटल के बाहर खड़े सैकड़ो लोगो का रो-रो कर बुरा हाल हो गया था। इसके बाद उनके शरीर को दफ़नाने को लेकर भी विवाद हो गया जिसकी सुनवाई मद्रास हाई कोर्ट में चल रही है।

करुणानिधि के निधन पर PM मोदी ने जताया शोक, चेन्नई के लिए हुए रवाना 

इन सब ख़बरों के बीच लोगों के मन में ये सवाल उठ रहा है कि आखिर करूणानिधि को दफनाया क्यों जा रहा है और हिन्दू होने के बावजूद उनका अंतिम संस्कार क्यों नहीं किया जा रहा। आपको बता दें कि करूणानिधि की तरह ही तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जयललिता को भी दफनाया ही गया था।  दरअसल ये दोनों नेता द्रविड़ मूवमेंट से जुड़े हुए थे और द्रविड़ आंदोलन हिंदू धर्म की ब्राह्मणवादी परम्पराओं और रस्मों में यक़ीन नहीं रखता है। 

करूणानिधि निधन : करूणानिधि को श्रद्धांजलि देने पहुंची रजनीकांत सहित कई हस्ती

गौरतलब है कि सामान्य हिंदू परंपरा के ख़ि़लाफ़ द्रविड़ मूवमेंट से जुड़े नेता अपने नाम के साथ जातिसूचक टाइटल का भी इस्तेमाल नहीं करते। करूणानिधि और जयललिता से पहले एआईएडीएमके के वरिष्ठ नेता एमजी रामचंद्रन को भी दफ़नाया गया था। हालांकि DMK पार्टी करूणानिधि को मरीना बीच पे दफनाना चाहती है लेकिन राज्य सरकार ने इसकी अनुमति देने से इंकार कर दिया है। अब इस मामले में मद्रास हाई कोर्ट में सुनवाई चल रही है। 

ख़बरें और भी 

जैकी चैन से लेकर बिग बी तक हैं करूणानिधि के फैन

करूणानिधि निधन : बेटे स्टालिन ने पिता के नाम लिखा मार्मिक खत

करूणानिधि के निधन से भावुक हुए स्टार्स लिखा रुला देने वाला पोस्ट

 

 

?