कोरोना संक्रमण से बचने के लिए अब रेलवे देगा डिस्पोजेबल चादर-कंबल

Jul 05 2020 12:04 PM
कोरोना संक्रमण से बचने के लिए अब रेलवे देगा डिस्पोजेबल चादर-कंबल

भोपाल : कोरोना संक्रमण के चलते ट्रैन के पहिए भी थम गए थे. हालांकि अब हालात को देखेत हुए फिर पटरी पर ट्रेनें दौड़ने लगी है. इसके अलावा रेलवे अब अपने यात्रियों को कोरोना संक्रमण से लड़ने के लिए ट्रेन में डिस्पोजेबल चादर और कंबल देने वाला है. इस पहल की शुरुआत दानापुर रेल मंडल ने कर दी है. इसके लिए यात्रियों को मामूली शुल्क भी चुकाना पड़ेगा. कोरोना संक्रमण के चलते रेलवे ने पुनः धुलकर उपयोग की जाने वाली चादर, कंबल देना बंद कर दिए है. इनसे संक्रमण का खतरा और बढ़ सकता था. रेलवे ने इसी खतरे को देखते हुए एसी कोचों से परदे भी हटा दिए थे. अब जो चादर, कंबल दिए जाने वाले है, उन्हें यात्री केवल एक बार ही इस्तेमाल कर पाएंगे.

वहीं, रेलवे के दानापुर रेल मंडल ने चार तरह के डिस्पोजेबल लिनेन किट (चादर, कंबल, तौलिया का सेट) तैयार कर लिया हैं जो 50 रुपये से 250 रुपये में मिलाने वाला है. रेलवे ये किट प्लेटफार्म और ट्रेन के अंदर अवेलेबल करवाएगा. इस बारें में रेलवे बोर्ड के एक अधिकारी ने बताया कि यह व्यवस्था सभी रेल मंडलों में की जानी है. ऐसा करने से इच्छुक यात्री सफर के दौरान किट खरीद पाएंगे. यात्रा पूरा होने पर चादर, कंबल, तौलिया को प्लेटफार्मों पर उपलब्ध डस्टबिन में डालना अनिवार्य होगा.

जानकारी के लिए बता दें कि पूर्व में रेलवे यात्रियों को तौलिया, चादर व कंबल दिया करता था. अब इन्हें एक बार उपयोग करने के बाद धुलाई के लिए भेजा जाता था फिर उपयोग में लाते थे. यात्रियों को इसके लिए अलग से शुल्क नहीं देना होता था, यह टिकट के साथ ही मिलते थे. लेकिन अब बारिश का वक्त है. रात्रि का समय एसी में सफर करने वाले यात्रियों को ठंड का अहसास होने लगा है, इसलिए रेलवे लिनेन किट अवेलेबल करवा रहा है. भोपाल रेल मंडल से गुजरने वाली ट्रेनों में भी यह सुविधा जल्द मिलने वाली है.

किल कोरोना अभियान : 127 कोरोना संदिग्ध मरीज मिले, पांच निकले मलेरिया पीड़ित

इंदौर में 23 नए कोरोना संक्रमित मिले, पूर्व मंत्री के रिश्तेदार समेत तीन मरीजों की मौत

भोपाल के इस इलाके में बेकाबू हुआ कोरोना, 33 नए संक्रमित मिले