मुसलमानों पर बयान को लेकर आमने-सामने आए हेमा मालिनी और मेनका गाँधी

मुसलमानों पर बयान को लेकर आमने-सामने आए हेमा मालिनी और मेनका गाँधी

मथुरा: मुसलमानों को लेकर बयान देने के चलते केंद्रीय मंत्री और सुल्तानपुर लोकसभा सीट से  भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) उम्मीदवार मेनका गांधी को एक ओर जहां कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है वहीं उनकी पार्टी की सांसद हेमा मालिनी ने भी उनके इस बयान का समर्थन करने से इंकार कर दिया है। 

सरकारी न्यूज एजेंसी ANI से बातचीत में भाजपा सांसद और मथुरा लोकसभा सीट से उम्मीदवार हेमा मालिनी ने कहा है कि, 'एक जनप्रतिनिधि के रूप में कार्य करने के दौरान मैं यह नहीं देखती की किसने मुझे वोट दिया है या किसने मुझे वोट नहीं दिया है। जनता के लिए काम करना मेरा दायित्व है।' हेमा मालिनी ने कहा है कि तीन तलाक के मसले पर अधिकतर मुस्लिम महिलाएं हमारे साथ हैं। वे हमारा समर्थन कर रही हैं। अल्पसंख्यक समुदाय का एक बड़ा हिस्सा हमारे साथ हैं। वैसे भी हमें समाज के तमाम वर्गों के साथ बराबरी के साथ काम करना है। मेनका का नाम लिए बगैर हेमा ने कहा है कि कोई क्या सोचता है वह इस पर अधिक कुछ नहीं कहेंगी।

हेमा मालिनी ने कहा है कि उन्होंने और उनकी सरकार ने काफी सारे अच्छे काम किए हैं। मुझे पूरा यकीन है कि लोग फिर से चुनेंगे। पूरी व्यवस्था बदल रही है। लोग अब विकास चाह रहे हैं। जाति आधारित राजनीति अब कार्य नहीं कर रही है। इसलिए हम सबका साथ सबका विकास का नारा लेकर चुनावी मैदान में आए हैं।

खबरें और भी:-

राबड़ी को प्रशांत किशोर का मुंहतोड़ जवाब, कहा- मेरे सामने बैठ जाएं मीडिया के सामने फिर...

मायावती की वोटरों से अपील, कहा- बजरंग बलि और अली में विवाद पैदा करने वालों से रहें सावधान

आप नेता भगवंत मान ने पंजाब की जनता को लिखा पत्र, कहा- मैंने हमेशा के लिए शराब छोड़ दी है....