गुजरते साल पर छलका कांग्रेस का दर्द, कुप्रबंधन पर कही यह बात

May 31 2020 10:05 AM
गुजरते साल पर छलका कांग्रेस का दर्द, कुप्रबंधन पर कही यह बात

लॉकडाउन और कोरोना संकट के बीच मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल के एक साल पूरा होने पर कांग्रेस ने तीखा हमला करते हुए इसे कुप्रबंधन, निराशा भरा और असीम पीड़ा देने वाला साल बताया है. पार्टी ने इस दौरान 'बेबस लोग, बेरहम सरकार' का नया नारा भी दिया. साथ ही सरकार के पिछले छह सालों को भ्रांतियों भरा बताते हुए छह भ्रांतियां भी गिनाई. जिसमें बेरोजगारी और खराब अर्थव्यवस्था जैसे मुद्दों को भी प्रमुखता के उठाया.

सीएम योगी का बड़ा फैसला, 1.80 करोड़ बच्चों को मिलेगा मिड-डे अनाज, अभिभावकों के खाते में आएगा पैसा

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि कांग्रेस महासचिव केसी वेणुगोपाल और पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने शनिवार को पत्रकारों से आनलाइन चर्चा करते हुए सरकार के एक साल के कामकाज पर गंभीर सवाल उठाए. वेणुगोपाल ने कहा कि मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का पहला साल शासन के स्तर पर बेहद खराब रहा है. इसके चलते देश को राजनीतिक, आर्थिक और सामाजिक स्तर पर नुकसान हुआ है. इसके साथ ही उन्होंने सरकार के काम-काज को नाकामियों से भरा बताया. उन्होंने कहा कि मोदी सरकार के सात सालों के कार्यकाल में देश में आज एक ऐसे मुहाने पर खड़ा है, जहां नागरिकों को सरकार ने अनगिनत घाव दिए है. जिन्हें वह सहने के लिए मजबूर भी है. 

अमित शाह ने देशवासियों से की ये अपील, कहा- ...तो कोविड के बाद दुनिया का नेतृत्व करेगा भारत

अपने बयान में पार्टी महासचिव ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी हर साल दो करोड़ नौकरी देने का वादा कर सत्ता में आए थे, लेकिन 2017-18 में देश में बेरोजगारी दर बढ़कर 45 साल के उच्चतम स्तर पर पहुंच गई है. आने वाले दिनों में इनमें और भी बढोतरी होगी, वहीं रूपया अब मार्गदर्शक मंडल में पहुंच गया है. जबकि पीएम मोदी ने वादा किया था, जब सत्ता में आएंगे तो रूपया डालर के मुकाबले 40 रुपए के बराबर पर ला देंगे. लेकिन आज स्थिति यह है कि मोदी सरकार के छह सालों में भारतीय रूपया एशिया की सबसे खराब प्रदर्शन वाली करेंसी बन गया. 30 मई 2020 को एक अमेरिकी डालर 75.75 रुपए के बराबर है.साथ ही, कांग्रेस प्रवक्ता सुरजेवाला ने सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि बड़े- बड़े दावे और ढोल-नगाड़े बजाकर सत्ता में काबिज हुई यह सरकार देश को सामान्य रूप से चलाने की उम्मीदों पर भी खरी नहीं उतर पायी है. इनकी गलतियों के चलते पूरा देश पिछले कई सालों से नए-नए संकटों से जूझ रहा है. जो अब तक जारी है. गौरतलब है कि पीएम नरेंद्र मोदी की अगुवाई में सरकार ने अपने दूसरे कार्यकाल के लिए 30 मई 2019 को शपथ ली थी.

30 जून तक इन शहरों में रहेगा सख्त लॉकडाउन, नहीं मिलेगी कोई छूट

लॉकडाउन को पूर्ण रूप से खोलने के लिए बनाए गए तीन चरण, जानें कब खुलेगा कौन सा क्षेत्र

भारत में मौत का आंकड़ा 5 हजार के ​करीब पहुंचा, लॉकडाउन में छूट से सारी मेहनत पर फिर पानी