अराजक तत्वों को कुत्तों की तरह गोली मारने का कहने वाले दिलीप घोष बने भाजपा अध्यक्ष

Jan 16 2020 03:20 PM
अराजक तत्वों को कुत्तों की तरह गोली मारने का कहने वाले दिलीप घोष बने भाजपा अध्यक्ष

भाजपा की पश्चिम बंगाल इकाई के अध्यक्ष के लिए दिलीप घोष को उपयुक्त उम्मीदवार माना जा रहा था. दिलीप घोष के नेतृत्व में भाजपा बंगाल में काफी जबरदस्त प्रदर्शन कर रही है. इस बातों के मुद्देनजर दिलीप घोष को 2020-2023 के लिए भाजपा की पश्चिम बंगाल इकाई के अध्यक्ष के रूप में दोबारा चुना गया है. भाजपा में अभी संगठन का चुनाव चल रहा है, जिसमें सभी प्रदेशों में अध्यक्ष चुनने के बाद जल्द ही राष्ट्रीय अध्यक्ष का चुनाव होगा. माना जा रहा है कि भाजपा के कार्यकारी अध्यक्ष जे पी नड्डा जल्द ही विधिवत भाजपा के नए राष्ट्रीय अध्यक्ष घोषित किये जायेंगे. 

दिल्ली में भाजपा बड़ा गेम खेलने को तैयार, चुनावी रण में उतारने वाली है दिग्गज नेता


भाजपा के बंगाल इकाई के अध्यक्ष दिलीप घोष हाल ही में अपने एक बयान को लेकर सुर्खियों में थे.उन्होंने कहा था कि नागरिकता कानून को लेकर हिंसक प्रदर्शनों के दौरान जिस तरह उत्तर प्रदेश में उपद्रवियों को गोली मारी गई, उसी तरह वह बंगाल में भी अराजक तत्वों को कुत्तों की तरह गोली मारेंगे. उन्होंने कहा था कि अगर हम सत्ता में आए तो देश विरोध लोग जो सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाते हैं, उनको लाठियों से मारेंगे, गोली मारेंगे और जेल भेजेंगे.

केजरीवाल सरकार निर्भया मामले में घिराई, केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने ​लगाया बड़ा आरोप

अपने बयान में आगे दिलीप घोष ने कहा था कि पश्चिम बंगाल जब नक्सलवाद से प्रभावित था तो उस समय सिद्धार्थ शंकर रे ने कई युवाओं को मारा था. उनकी पीठ पर गोली मारी थी. उस दौरान उनकी तारीफ करने वाले आज अहिंसा की बात कर रहे हैं. क्या वो लोग बूढ़े हो गए हैं या उनका खून ठंडा हो गया है. ममता बनर्जी दार्जिलिंग गई थीं और वहां उन्होंने कहा कि जो हमसे टकराएगा, चूर-चूर हो जाएगा. पुलिस फायरिंग में 11 गोरखा मारे गए. कम्युनिस्टों ने मोरिरझापी में 6 पूर्व ब्लॉक सदस्यों और कई शरणार्थियों को मार डाला था.पश्चिम बंगाल भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष अपने विवादित बयानों की वजह से सुर्खियों में रहते हैं.सीपीएम विधायक सुजान चक्रवर्ती ने दिलीप घोष के बयान पर कहा, 'उन्होंने कहा कि असम और यूपी में पुलिस ने लोगों को कुत्तों की तरह गोली मारी. हम पूछते हैं कि क्या हकीकत में यूपी और असम पुलिस ने ऐसा किया. हमारे समय में पुलिस ने मजबूर होकर अंतिम समय में गोली चलाई थी और वो कह रहे हैं कि उन्होंने लोगों को कुत्तों की तरह मारा. 

घूंघट डालकर वोट मांगने निकली पाकिस्तान मूल की बहू, CAA विरोधियों को दिया खास संदेश

सीएम अमरिंदर सिंह पर हमला तेज, बाजवा ने कहा-मैं गीदड़ भभकी से डरने...

देवप्रयाग-ऋषिकेश में भीषण हादसा, खाई में कर गिरने से 5 की मौत