कृषि विधेयक को सिद्धू ने बताया काला कानून, कहा- 'किसान मेरे प्राण है'

चंडीगढ़ः काफी महीनों के बाद पंजाब के कांग्रेस विधायक एवं पूर्व मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू सड़क पर आ गए हैं। जी दरसल उन्होंने कृषि सुधार बिलों पर हंगामा मचाया है। वह संसद में कृषि सुधार बिलों को पारित करने के खिलाफ किसानों के विरोध के समर्थन में विरोध प्रदर्शन करते दिखाई दिए हैं। जी दरअसल इस दौरान उन्होंने बहुत सी बात की।

इन्ही बातों में उन्होंने कहा कि 'पंजाब का हर आदमी और हर पार्टी जब इकट्ठा होकर लड़ेगी तो हम ये बिल लागू नहीं होने देंगे। आज मैं यहां अपने लिए आया हूं क्योंकि किसान मेरे प्राण है, किसान मेरी जान है और किसान मेरी पगड़ी है और उन्होंने आज इस पगड़ी को हाथ लगाया है।' इसके अलावा उन्होंने यह तक कहा कि सभी राजनीतिक दलों, किसान संगठनों और हर एक पंजाबी को इस किसान विधेयकों के क्रियान्वयन का मजबूती से विरोध करने के लिए हाथ मिला लेना चाहिए।

आपको याद हो तो बीते दिनों ही सिद्धू ने ट्विटर पर किसानों का समर्थन किया था और ट्वीट कर कहा था, ''पंजाब, पंजाबियत और पंजाबी किसानों के साथ है।'' इसी के साथ उन्होंने कृषि विधेयकों को ''काला कानून'' कहा और यह भी कहा कि इससे कृषक समुदाय बर्बाद हो जाएगा। उनके अनुसार यह कानून कृषक समुदाय को ''बर्बाद'' कर देगा।

IPL 2020: जीत के बाद संजू सैमसन ने कही दिल की बात

26 सितंबर को इन मुद्दों पर होगी श्रीलंकाई PM और प्रधानमंत्री मोदी की चर्चा!

इंस्टाग्राम और इस एप के द्वारा होता था बॉलीवुड स्टार्स को ड्रग्स सप्लाई

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -