अदृश्य होकर महाभारत के इस शख्स ने किया लोगो के दिलो पर राज

'मैं समय हूं...और आज 'महाभारत' की अमर कथा सुनाने जा रहा हूं..' 80-90 के दशक में जब टीवी पर यह आवाज गूंजती मानो हर कोई सम्मोहित हो जाता था। अगर यह कहा जाए कि जिस तरह रामानंद सागर की 'रामायण' के लिए रवींद्र जैन का कमाल का संगीत और चौपाइयां करती थीं, वही काम महेंद्र कपूर की आवाज और 'समय' नाम के किरदार ने भी किया। इसके साथ ही वह किरदार, जो अदृश्य था और अपनी जादुई आवाज के दम पर लोगों के दिलों में हमेशा के लिए बस गया।यह अदृश्य किरदार है समय का, वही समय जो स्क्रीन पर कभी नहीं दिखा बस यही कहता नजर आया, 'मैं समय हूं..।' समय नाम के इस किरदार को आवाज दी थी मशहूर वॉइस ओवर आर्टिस्ट हरीश भिमानी। 

वही भिमानी, जिनकी आवाज ही उनकी पहचान है। वहीं 'महाभारत' का लगभग हर किरदार स्क्रीन पर दिखाई दिया और सभी ने अपनी ऐक्टिंग के दम पर सफलता पाई। लेकिन हरीश भिमानी ने सिर्फ अपनी आवाज के दम पर ही स्टारडम पा लिया। इसके साथ ही हरीश भिमानी न सिर्फ एक वॉइस ओवर आर्टिस्ट हैं, बल्कि एक लेखक, डॉक्युमेंट्री और कॉर्पोरेट फिल्ममेकर व न्यज ऐंकर भी हैं। करीब 4 दशकों से हरीश भिमानी देशवासियों को उन्हीं की भाषा में अलग-अलग चीजें भी समझाते आ रहे हैं। उनकी आवाज देश की सर्वश्रेष्ठ बेकग्राउंड आवाजों में से एक मानी जाती है।

आपकी जानकारी के लिए बता दें की एक इंटरव्यू में हरीश भिमानी ने बताया था कि एक बार ऐक्टर गूफी पेंटल का उन्हें फोन आया था। बता दें कि गूफी पेंटल बी.आर. चोपड़ा की 'महाभारत' में न सिर्फ शकुनि मामा का रोल प्ले कर रहे थे, बल्कि कास्टिंग भी कर रहे थे। गूफी पेंटल ने हरीश भिमानी को फोन कर ऑफिस बुलाया और एक कागज पर कुछ लिखा हुआ देकर अपनी आवाज में रिकॉर्ड करने के लिए कहा। उस वक्त हरीश भिमानी यह बताया नहीं गया कि उनकी आवाज किसलिए रिकॉर्ड की जा रही है।

कोरोना वायरस पर नेटफ्लिक्स ने रिलीज़ की नई वेब सीरीज़

आधी रात में सुनील ग्रोवर को आया एक कॉल, देखें वीडियो

'ये रिश्ता क्या कहलाता है' फेम मोहिना कुमारी गहनों की कम है शौकीन

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -