वैक्‍सीन का बूस्‍टर डोज देगा Omicron को मात!

कोरोना वायरस के नए वैरिएंट ओमिक्रोन (Omicron) को लेकर दिन पर दिन चिंताएं बढ़ती ही चली जा रही है। अब दुनिया में कई देशों ने वैक्‍सीन के बूस्‍टर डोज पर काम करना शुरू कर दिया है। इस लिस्ट में फ्रांस सबसे पहले शामिल हुआ है जो कोविड टीके के बूस्‍टर‍ डोज को अनिवार्य बना चुका है। इन सभी के बीच ब्रिटेन ने भी अब बूस्‍टर डोज का दायरा बढ़ाने का फैसला लिया है, और इसके तहत 18 साल से अधिक उम्र के सभी वयस्‍कों को बूस्‍टर डोज लगाया जाएगा। हाल ही में ब्रिटेन की सरकार ने घोषणा की है और बताया कि अब 18 वर्ष से अधिक उम्र के सभी वयस्कों को बूस्‍टर डोज दिया जा सकेगा। आपको बता दें कि इससे पहले 40 साल से अधिक उम्र के लोगों के लिए बूस्‍टर डोज की अनुशंसा की गई थी।

वहीं यहाँ ओमिक्रोन के खतरे को देखते हुए विशेषज्ञों की सलाह पर दूसरे व तीसरे डोज के बीच की अवधि 6 माह से घटाकर 3 माह करने का फैसला लिया गया है। इन सभी के बीच टीकाकरण पर संयुक्त समिति (JCVI) के अध्‍यक्ष वी शेन लिम ने कहा, 'वैक्‍सीन के बूस्टर डोज से ओमिक्रोन वैरिएंट के खिलाफ हमारी सुरक्षा और मजबूत होगी।' कहा जा रहा है सभी वयस्‍कों को कोविड रोधी वैक्‍सीन के तीसरे यानी बूस्‍टर डोज देने की बात कही गई है, और इसी के साथ 12-15 साल के बच्‍चों को वैक्‍सीन की दूसरी डोज लगाने की बात कही गई है।

इस समय कोविड से बचाव में टीकाकरण को सबसे मजबूत हथियार बताया गया। हाल ही में ब्रिटेन के स्वास्थ्य मंत्री साजिद जाविद ने 'हाउस ऑफ कॉमन्स' में कहा, 'कोविड-19 अभी गया नहीं है। इस बीच कोरोना वायरस के नए वैरिएंट ने चिंता बढ़ाई है। कोविड से जंग में इस वक्‍त वैक्‍सीनेशन ही बड़ा हथियार है।'

तेजी से पैर पसार रहा है 'ओमिक्रॉन', 13 देशों तक पहुंचा वेरिएंट

तेलंगाना के स्कूल में 42 बच्चे कोरोना संक्रमित, Omicron की जांच के लिए भेजे गए सैंपल

बड़ा विस्फोट कर सकता है Omicron, जानिए WHO ने अपनी चेतावनी में और क्या कहा ?

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -