तुर्की से पहली वार्ता के लिए तालिबान का प्रतिनिधिमंडल पहुंचा अंकारा

इस्तांबुल: तुर्की के विदेश मंत्री मेवलुत कावुसोग्लू ने अगस्त में अफगानिस्तान पर कब्जा करने के बाद से अपनी तरह की पहली बैठक में अंकारा में तालिबान के एक प्रतिनिधिमंडल से मुलाकात की। यह यात्रा तालिबान द्वारा इस सप्ताह की शुरुआत में कतर में अमेरिका 10 यूरोपीय देशों और यूरोपीय संघ के साथ कई चर्चाओं के बाद हुई है।

तालिबान के कार्यवाहक विदेश मंत्री अमीर खान मुत्ताकी ने कहा- "हमने तालिबान प्रशासन को सलाह दी। हमने एक बार फिर कहा कि उन्हें देश की एकता के लिए समावेशी होना चाहिए। हमने प्रशासन में जातीय समूहों के अलावा अन्य लोगों को शामिल करने के महत्व के बारे में बात की।" उन्होंने कहा कि तुर्की ने लड़कियों की शिक्षा और महिलाओं को रोजगार देने की भी सलाह दी। उन्होंने कहा, 'हमने कहा कि यह सिर्फ पश्चिमी देशों की मांग नहीं है, बल्कि इस्लामी जगत की भी सलाह है। उन्होंने कहा कि तालिबान अधिकारियों ने उन अफगान शरणार्थियों का समर्थन करने का वादा किया जो तुर्की से देश लौटना चाहते हैं।

तुर्की ने काबुल से नियमित उड़ानों को फिर से शुरू करने के लिए सुरक्षा के संबंध में देश और अंतर्राष्ट्रीय नागरिक उड्डयन संगठन की अपेक्षाओं से भी अवगत कराया, कैवुसोग्लू ने कहा। इस बीच, तालिबान प्रतिनिधिमंडल ने तुर्की से मानवीय सहायता और विकास परियोजनाओं में अपना समर्थन जारी रखने के लिए कहा। प्रतिनिधिमंडल तुर्की के रेड क्रिसेंट, आपदा और आपातकालीन प्रबंधन प्राधिकरण और धार्मिक मामलों के प्रेसीडेंसी से भी मुलाकात करेगा।

जम्मू कश्मीर: आतंकियों से लोहा लेते हुए शहीद हुए माँ भारती के दो और सपूत, एनकाउंटर जारी

राज-शिल्पा के खिलाफ शर्लिन चोपड़ा ने दर्ज करवाई FIR, बोली- ना आपसे डरूंगी ना ही...

'वर्ल्ड रिकॉर्ड' बनाएगी अरुणाचल प्रदेश की ये नई सुरंग, जानिए इसमें क्या है ख़ास

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -