कैसे थमेंगे ओमीक्रॉन के मामले, विदेश से आए 98 लोग लापता

दुनियाभर में परेशानी की वजह बने कोविड-19 के बाद अब उसके नए वेरिएंट ओमीक्रॉन ने दहशत मचा दी है। जी दरअसल नए वेरिएंट ओमिक्रॉन के मामले मिलने के बाद प्रदेश सरकारों ने प्रशासन को सुरक्षा और सावधानी बरतने के निर्देश दिए हैं। इसके तहत विदेश से आने वाले सभी यात्रियों की मॉनिटरिंग प्रशासन द्वारा की जा रही है। आप सभी को बता दें कि अब विदेश से आने वाले यात्रियों के डेटा से जिला प्रशासन को अवगत कराया जा रहा है। इन सभी के बीच अब एक चौकाने वाली खबर आई है।

जी दरअसल इस समय विदेश से आने वाले ऐसे सभी यात्रियों की मॉनिटरिंग जिला प्रशासन द्वारा की जा रही है जो इफेक्टिव कंट्रीज यानी जहां कोरोनावायरस के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन का असर देखने को मिला है। आपको बता दें कि देशों को एड्रेस कंट्रीज और जहां इसका असर नहीं है उन्हें नॉन एड्रेस कंट्रीज कहा जा रहा है। यह सब देखते हुए जिला प्रशासन विदेश से आने वाले सभी लोगों को इन दो कैटेगरी में रखते हुए उनकी निगरानी और लक्षण पाए जाने पर होम क्वॉरेंटीन करने का काम भी कर रहा है।

आप सभी को बता दें कि रामपुर में अब तक लगभग 60 ऐसे यात्री पहुंचे हैं जो एड्रेस कंट्रीज वाले देशों से आये हैं, ऐसे में उन सभी पर जिला प्रशासन नजर बनाए हुए हैं। इसी के साथ ही उनके साथ परस्पर संपर्क रखकर उनकी निगरानी भी की जा रही है। वहीं विदेश से आने वाले इन यात्रियों का हफ्ते में तीन बार स्वास्थ्य विभाग की टीम जाकर मुआयना करती है। इसी के साथ नॉन एड्रेस कंट्री से अब तक कुल 645 यात्री रामपुर पहुंचे हैं जिनमें से 98 यात्रियों का कोई अता-पता नहीं है।

वह यात्री प्रशासन के लिए मुश्किल का सबब बने हुए हैं, जिनको ढूंढने की स्वास्थ्य विभाग पुरजोर कोशिश में लगा है और अब स्वास्थ्य विभाग ने रामपुर की लोकल इंटेलिजेंस की भी मदद लेने की बात कही है। बीते 3 माह में रामपुर में कोरोना वायरस से संक्रमित कोई मामला सामने नहीं आया है लेकिन सुरक्षा के दृष्टिगत स्वास्थ्य विभाग लापता 98 लोगों की जानकारी निकालने में लगा है।

भारत में बढ़ा 'ओमिक्रॉन' का खतरा, इन 5 राज्यों में सामने आए 19 नए केस

छुट्टी समारोहों के शुरू होने के बाद से अमेरिका में कोविड के केस बढ़ रहे है

मॉडर्ना का दावा है कि उसका बूस्टर शॉट ओमिक्रोन के खिलाफ प्रभावी है

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -