6 मई से इंदौर में नन्हे रंगकर्मियों का मेला

बच्चों में अनुकरण की क्षमता गजब की होती है, उनके भाव जगत में, उनके निर्दोष मन में हर चीज का असर बहुत ज्यादा होता है. वह रेत पर खींची लकीर की तरह नहीं वरन् पत्थरों में अंकित छवियों की तरह होती है, बाल मन में अश्लील और कुरूप छवियों के प्रभाव भी जल्दी असर डालते हैं. इसीलिए बाल रंगमंच का आयोजन किया जाता है, ताकि बच्चों को सही मार्गदर्शन दिया जा सके. 

वैसे भी बच्चों की दुनिया निराली होती है, उनका मन निर्मल, जिज्ञासा अकूत और प्रभाव ग्रहण करने की भरपूर क्षमता होती है. ऐसे में बच्चों का रंगमंच आकर्षक चटक रंगों से सजा, आंखों को सुखकर, नृत्य संगीत से युक्त होना चाहिए. जिसमे छोटे-छोटे संवाद हो, जिनमें मानवीय संवेदना का घोल हो, ताकि बच्चे इसे आसानी से हृदयंगम कर सकें, जिससे उनमे सामूहिकता का बोध हो, क्योंकि उनके मन पर इन सभी के स्थायी प्रभाव होते है. 

रंगमंच अभिव्यक्ति का इतना प्रभावशाली माध्यम है कि इसने कई बच्चों के व्यक्तित्व का विकास किया है. जो बच्चे पहले संकोची से होते हैं, धीरे-धीरे इससे जुड़ने के बाद खुलने लगते हैं, अपनी बात को सुंदर ढंग से बताने लगते हैं, दूसरों को समझने लगते हैं. उनमे सृजनशीलता का विकास होता है, जिससे वे बड़े होकर अपने जीवन के किसी पड़ाव पर निराश होने के बजाए उसका डट कर सामना करते हैं. इसीलिए मध्यप्रदेश के इंदौर शहर का रंगमंच ग्रुप प्रयास 3D प्रतिवर्ष बच्चों के लिए रंगमंच की कार्यशाला का आयोजन करता है, जहाँ अभिनय नृत्य संगीत चित्रकारी जैसे कई मार्गों के द्वारा बच्चों के व्यक्तित्व का विकास किया जाता है. इस बार यह आयोजन 6 मई से शुरू हो रहा है जिसके पंजीकरण के लिए आप यहां संपर्क कर सकते हैं.
मोबाइल नंबर:- 
9926656516
9589485842
8305164064 

"बड़ों की इस दुनिया में, 
आओ छोटे बच्चों से
सबक बड़प्पन का लिया जाए,
आओ, फिर से जिया जाए"

अपने दौर के बेमिसाल अदाकार को भावपूर्ण श्रद्धांजलि

सऊदी थिएटर में दिखाई गई पहली मूवी

बॉलीवुड से आउट होते जा रहे हैं विनय पाठक

 

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -