यूपी: इन लोगों के सामने गिरा था विवादित ढांचा, कोठारी बंधू को लगी थी गोली

Aug 05 2020 04:08 PM
यूपी: इन लोगों के सामने गिरा था विवादित ढांचा, कोठारी बंधू को लगी थी गोली

लखनऊ: आज वो शुभ घडी आ ही गई, जिसके लिए वर्षो तक आंदोलन चलाया गया. वही 6 दिसंबर साल 1992 की घटना आज ताजा हो गई. सभी बुरी यादें भूल गए. आज ऐसा महसूस हो रहा है, जैसे हर ख्वाहिश पूर्ण हो गई हो. गांव की गलियों से होकर पैदल दौड़ते हुए, ठेला, जीप, ट्रैक्टर की सवारी कर राम नगरी अयोध्या पहुंचने में जो तकलीफ हुई थी, वह सब प्रभु श्रीराम मंदिर शिलान्यास के पश्चात् खत्म हो गई. प्रभु श्रीराम मंदिर निर्माण को लेकर सालों पुरानी प्राथना अब पूर्ण हो गई है.

इन बातों का जिक्र करते हुए, महराजगंज जिले के आजाद नगर मोहल्ले के रहवासी सानंदन पटेल ने कहा, आज बहुत प्रसन्नता हो रही है. उस प्रसन्नता को बयां करने के लिए लफ्ज ही नहीं है. पीएम मोदी ने राम नगरी अयोध्या में प्रभु श्रीराम मंदिर का शिलान्यास कर कारसेवक ही नहीं, सभी हिंदू जनमानस के स्वपन को पूर्ण कर दिखाया है. उन्होंने बताया, महराजगंज से अयोध्या जाने के समय पुलिस की नजरों से बचना था. तो इस कारण कुछ दूर तक पैदल, तो कुछ दूर ट्रैक्टर पर सवार होकर राम नगरी अयोध्या तक पहुंचे. 

साथ ही सरकार बीजेपी की थी, इसलिए यह डर नहीं था कि गोली चलेगी, किन्तु गोली चली तो कोठारी बंधू की मृत्यु हो गई. ऐसी भयानक भगदड़ मची, की कुछ समझ में नहीं आ रहा था. जान बचाकर भागते समय घुटने में गंभीर चोट लगी. इतना बदहवाश हो गया था, कि चोट महसूस ही नहीं हुई. ठेले पर बैठकर जब बस्ती तक पहुंचा, तो दर्द का अहसास हुआ. जब तक गोरखपुर में पहुंचा, तब तक वहा कर्फ्यू लग चुका था. साइकिल एवं पैदल किसी प्रकार से महराजगंज रात्रि में पहुंचा था. वही कांग्रेस की राष्ट्रीय प्रवक्ता सुप्रिया श्रीनेत ने कहा, प्रभु श्रीराम भक्ति, शक्ति, स्नेह, करुणा, न्याय, सत्य के प्रतिक हैं. इसी के साथ अभी पुरे देश में हर्षोउल्लास है.

अब बैन हो सकते हैं यह 15 एप्स, कुछ हुए प्ले-स्टोर से गायब

पीएम मोदी का ऐतिहासिक भाषण जारी, कहा-इमारतें ध्वस्त कर दी गईं...

पीएम मोदी की फैन हुई शिवसेना, सामना संपादकीय में की जय..जयकार