अब तक नहीं चल सका हिमपात में दबे सेना के जवानों का पता

शिमला : भारत-तिब्बत बोर्डर पर गश्त के दौरान ग्लेशियर में फंसे सेना के पांच जवानों को खोजने का काम सोमवार को फिर सुबह शुरू किया गया। छः दिन पहले गश्त पर निकले सेना के जवान एकाएक मौसम खराब हाेने के बाद आए ग्लेशियर में फंस गए थे और अभी तक उनका कोई पता नहीं चला है। उन्हें खोजने के लिए सेना के जवानों सहित कई अन्य दलों की ओर से खोज जारी है। इस स्थान को सेना ने कब्जे में ले लिया है।

महाराष्ट्र के नासिक में आपस में भिड़े दो ट्रक, पांच लोगों की मौत 30 घायल

अब भी जारी है बर्फ़बारी का दौर 

सूत्रों से जानकारी के अनुसार कई दिनों से हिमाचल में बारिश और बर्फबारी का दौर जारी है। पिछले 6 वर्ष के बाद चूड़धार में भारी हिमपात हुआ है। चूड़धार का नजारा ऐसा बन गया है कि वहां पर बर्फ के सिवाय कुछ और कुछ भी नहीं दिख रहा है। समुद्र तल से 11985 फीट की ऊंचाई पर स्थित चूड़धार मंदिर की एक मंजिल पूरी तरह से बर्फ में दब गई है। मंदिर का एक भाग लगभग 17 फीट बर्फ में दब गया है। चूड़धार में दर्जनभर ढाबे, दुकानें और आश्रम हैं। 

जीएसटी काउंसिल के इस निर्णय के बाद अब घर खरीदने वालों को मिलेगा फायदा

इस बार ज्यादा है बर्फ़बारी का प्रकोप 

जानकारी के लिए बता दें इस बार बर्फ ज्यादा पड़ने से यहां शिवरात्रि के मौके श्रद्धालुओं को यहां प्राचीन शिव मंदिर में आने से मना किया जा रहा है। चूड़धार में रह रहे चूड़ेश्वर सेवा समिति के प्रबंधक ने श्रद्धालुओं से अपील की है कि वह इस बार शिवरात्रि मनाने के लिए चूड़धार न आएं।इसके अलावा जुजाइन ढांक के पास रविवार सुबह करीब 8 बजे सड़क पर भारी चट्टानें गिरने से हरिपुरधार-बढ़ोल मार्ग लगभग तीन घंटे तक बंद रहा।

झारखण्ड: आज सुबह हुई मुठभेड़ में तीन नक्सली ढेर, एक गिरफ्तार

शहीदों के परिवार के लिये इस तरह सचिन ने जुटाए 15 लाख रूपये

हिमाचल में रैली के दौरान गडकरी ने दी प्रदेश को कई सौगातें

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -