वर्षों तक दहशत के साए में जीने वाले लेखक सलमान रुश्दी ने कहा- छिपकर नहीं रहना चाहता

Feb 11 2019 05:28 PM
वर्षों तक दहशत के साए में जीने वाले लेखक सलमान रुश्दी ने कहा- छिपकर नहीं रहना चाहता

पेरिस: अयातुल्ला रुहोल्ला खुमैनी द्वारा जारी किए गए एक फतवे के कारण दशकों मौत के साए में जीने वाले विख्यात ब्रितानी भारतीय लेखक सलमान रुश्दी ने कहा है कि वे अब छिपकर जीना नहीं चाहते. रुश्दी ने पेरिस की यात्रा के दौरान प्रेस वालों से कहा है कि, ''मैं छिपकर जीवन जीना नहीं चाहता.'' 

सिख समुदाय को रिझाने की कोशिश में इमरान, कहा हमारे मुल्क में सिखों का पवित्र धर्मस्थान

उल्लेखनीय है कि, रुश्दी की जिंदगी 14 फरवरी, 1989 को उस वक़्त हमेशा के लिए बदल गई थी, जब मौजूदा ईरान के संस्थापक खुमैनी ने रुश्दी की किताब ''द सैटेनिक वर्सेज' को ईशनिंदा बताते हुए लेखक की मौत का फतवा जारी कर दिया था. तेहरान ने वैलेंटाइन डे पर प्रति वर्ष  इस फतवे को जारी किया. रुश्दी 13 वर्षों तक नकली नाम और कड़ी पुलिस सुरक्षा में रहे थे.

दिग्गज क्रिकेटर रिकी पोंटिंग ने इस टीम को बताया विश्वकप का प्रबल दावेदार

उन्होंने सितंबर में कहा था, ''मैं उस वक़्त 41 वर्ष का था और अब मैं 71 वर्ष का हो चुका हूं. अब चीजें ठीक हो गई हैं.''  उन्होंने अफसोस जताया था कि, ''हम ऐसी दुनिया में रह रहे हैं, जहां चीजें तेजी से बदलती हैं. अब यह बात भी पुरानी हो गई है. अब भयभीत करने वाली कई दूसरी चीजें है.'' तेहरान ने कहा था कि उनके ऊपर से संकट ''हट गया'' है, जिसके तीन साल बाद 11 सितंबर 2001 में महीनों बाद रुश्दी ने नकली नाम का उपयोग करना बंद कर दिया था, किन्तु पेरिस में एक चैनल के साथ साक्षात्कार के दौरान उनके फ्रांसीसी प्रकाशक के दफ्तर के बाहर सादे कपड़ों में सशस्त्र पुलिसकर्मी तैनात रहे थे.  रुश्दी ने कहा था कि उनकी पुस्तक को गलत समझ लिया गया. 

खबरें और भी:-

अमेरिकी सांसद का दावा, राष्ट्रपति चुनाव से पहले ही जेल जा सकते हैं ट्रम्प

वित्तीय संकट से जूझ रहे पाकिस्तान की मदद करेगा सऊदी अरब, 10 अरब यूएस डॉलर करेगा निवेश

अबु धाबी में उर्दू नहीं, बल्कि हिंदी होगी अदालत की तीसरी आधिकारिक भाषा