तीसरे विश्व युद्ध की आहट!: '1.30 लाख सैनिक-लड़ाकू विमान-मिसाइल, टैंक', तीन तरफ से घिरा यूक्रेन

रूस और यूक्रेन के बीच युद्ध के बादल अब गहराते हुए नजर आ रहे हैं। आप सभी को बता दें कि यूक्रेन की सीमा पर 1 लाख 30 हजार से ज्यादा सैनिक तैनात हो गए हैं और इसी के साथ ही रूस ने टैंक, भारी हथियार और मिसाइलें भी तैनात कर दी हैं। सामने आने वाली रिपोर्ट को माने तो रूस ने यूक्रेन को तीन ओर से घेर लिया है। दूसरी तरफ अमेरिका का कहना है कि 16 फरवरी को यूक्रेन पर हमला हो सकता है। आप सभी को बता दें कि अमेरिका और यूरोपीय देशों की ओर से रूस पर प्रतिबंध लगाने की चेतावनी दी गई है। वहीं, रूस पर इसका असर नहीं पड़ रहा है।

आप सभी को बता दें कि रविवार को अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन (Joe Biden) ने रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन (Vladimir Putin) से बात की थी, उन्होंने यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमीर जेलेन्स्की (Volodymyr Zelenskyy) से भी बात की थी। जी दरअसल अमेरिकी अधिकारियों ने बीते हफ्ते यूक्रेन सीमा पर 1 लाख रूसी सैनिकों के तैनात होने की जानकारी दी थी, हालाँकि अब अधिकारियों का कहना है कि यूक्रेन सीमा पर रूस के 1 लाख 30 हजार से ज्यादा सैनिक डटे हुए हैं। इस लिस्ट में से 1।12 लाख जवान सेना और 18 हजार जवान नौसेना और वायुसेना के हैं। इन सभी के बीच सीएनएन की रिपोर्ट का कहना है कि रूस ने यूक्रेन को तीन ओर से घेर लिया है।

इनमें दक्षिण में क्रीमिया और उत्तर में बेलारूस की ओर से घेरा है। इसी के साथ, रूस ने यूक्रेन के साथ लगती सीमा पर भी सैनिक तैनात कर दिए हैं और अमेरिकी रिपोर्ट बताती है कि रूस यूक्रेन पर कभी भी हमला कर सकता है।

इन 3 जगहों से रूस ने यूक्रेन को घेरा-

पूर्वी यूक्रेन : आपको बता दें कि यहां के डोनेत्स्क और लुहंस्क में 2014 से ही रूसी समर्थित अलगाववादी मौजूद हैं। वहीं CNN ने सैटेलाइट इमेज के आधार पर बताया है कि, येलन्या में रूसी सेना के मिलिट्री बेस को खाली कराया जा चुका है। आपको बता दें कि साल 2021 के आखिर में यहां बड़ी मात्रा में टैंक और हथियारों को इस मिलिट्री बेस पर लाया गया था, इसमें 700 टैंक, वाहन और बैलेस्टिक मिसाइल लॉन्चर शामिल थे। ऐसे में अब इन्हें मिलिट्री बेस से ले जाकर यूक्रेन की सीमा पर तैनात कर दिया गया है।

बेलारूस : रूस और बेलारूस के बीच करीबी संबंध हैं। बीते हफ्ते से ही रूस और बेलारूस की सेना ने 10 दिनों को युद्ध अभ्यास शुरू किया है और इसमें रूस के 30 हजार से ज्यादा सैनिक शामिल हुए हैं। वहीं बेलारूस में रूसी सैनिक के साथ-साथ SU-35 समेत कई लड़ाकू विमान, बैलेस्टिक मिसाइल सिस्टम और S-400 एयर डिफेंस सिस्टम तैनात है। जी दरअसल आशंका यह जताई जा रही है कि रूसी सेना बेलारूस के जरिए यूक्रेन की राजधानी कीव में घुस सकती है। आपको बता दें कि बेलारूस और कीव के बीच 150 किमी की दूरी है।

क्रीमिया : कभी यूक्रेन का हिस्सा रहा क्रीमिया 2014 से रूस के कब्जे में है। जी दरअसल CNN की रिपोर्ट में सैटेलाइट तस्वीरों के आधार पर बताया गया है कि 550 से ज्यादा मिलिट्री टेंट और सैकड़ों वाहन क्रीमिया की राजधानी सिम्फरोपोल के उत्तर में आ चुके हैं। वहीं क्रीमिया के उत्तर-पश्चिमी तट पर स्लावने शहर के पास भी बख्तरबंद गाड़ियां तैनात हैं। इसी के साथ कई रूसी युद्धपोत क्रिमिया के मुख्य बंदरगाह सेवस्तोपोल भी पहुंच गए हैं और इसके अलावा रूस ने 6 जंगी जहाज काला सागर में भी तैनात कर दिए हैं। वहीं यूक्रेन के साथ अमेरिका, ब्रिटेन समेत यूरोपीय देशों और NATO है। यूक्रेन के रक्षा मंत्री ओलेस्की रेजनीकोव ने ट्वीट कर बताया है कि अभी तक 1,500 टन की सैन्य सामग्री मिल गई है। इसमें हथियार, ग्रेनेड और गोला-बारूद जैसी सैन्य सामग्री शामिल है।

ईरान के गृह मंत्री अहमद वाहिदी इस्लामाबाद पहुंचे

ऑस्ट्रेलियाई सरकार की लोकप्रियता दो साल के निचले स्तर पर गिर गई

लीबिया पर संयुक्त राष्ट्र महासचिव ने सभी पक्षों से शांति बनाए रखने का आग्रह किया

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -