कोरोना के खौफ के बीच पीएम इमरान ने राजनीतिक दलों से मांगे सुझाव, फिर कही यह बात

कोरोना के खौफ के बीच पीएम इमरान ने राजनीतिक दलों से मांगे सुझाव, फिर कही यह बात

इस्लामबाद: एकाएक बढ़ा ही जा रहा कोरोना का प्रकोप आज पूरी दुनिया के लिए महामारी का रूप लेता रहा है. वही  इस वायरस की चपेट में आने से अब तक 19000 से अधिक मौते हो चुकी है. लेकिन अब भी यह मौत का खेल थमा नहीं है. इस वायरस ने आज पूरी दुनिया को हिला कर रख दिया है. कई देशों के अस्पतालों में बेड भी नहीं बचे है तो कही खुद डॉ. इस वायरस का शिकार बनते जा रहें है. पाक  सरकार द्वारा देश में पूर्व लॉकडाउन लागू करने की हिचक के बीच प्रधानमंत्री इमरान खान ने देश के नेताओं से एक अपील की है. इमरान ने आग्रह किया है कि सभी राजनीतिक दलों के नेता मिलकर कोरोना वायरस से निपटने की रणनीति बनाएं, ताकि इस माहामारी से मुक्‍त का रास्‍ता निकाला जा सकें.

राष्‍ट्रव्‍यापी लॉकबंदी देश की अर्थव्यवस्था के लिए हानिकारक: मिली जानकारी के अनुसार बीते बुधवार को वीडियो कांफ्रसिंग के जरिए नेशनल असेंबली के स्पीकर असद कैसर की अध्यक्षता में संसदीय नेताओं की एक बैठक को संबोधित करते हुए इमरान ने कहा कि एक राष्‍ट्रव्‍यापी लॉकबंदी देश की अर्थव्यवस्था के लिए हानिकारक होगी. जंहा इस बारें में उन्‍होंने संसदीय नेताओं से कहा कि स्‍थानीय स्‍तर पर मंगलवार तक कोराना वायरस के कुल 153 मामलों सामने आए हैं.

इमरान ने कहा कि लॉकडाउन कई तरह का होता है: वहीं इस बात का पता चला है कि इमरान ने कहा कि यह देश के लिए बहुत अच्‍छे संकेत हैं. उन्‍होंने कहा कि बाकी संक्रमित मरीज बाहर से आए हैं. उन्‍होंने राजनीतिक दलों के नेताओं को आश्वासन देते हुए कहा कि हालात नियंत्रण में हैं. इमरान ने कहा कि लॉकडाउन कई तरह का होता है. हमने स्‍कूलों और  विश्वविद्यालयों को बंद करके और मैच रद करके लॉकडाउन किया है. 

भारत में 'कोरोना' को मात देने की क्षमता, लेकिन सिर्फ लॉकडाउन काफी नहीं -WHO

कोरोना: बिना खाना-पानी के जमीन पर सोकर दिन काटने को मजबूर दुबई में फंसे भारतीय

सिर्फ ये तीन काम करके 'कोरोना' से जीता दक्षिण कोरिया, अब अमेरिका भी मांग रहा मदद