भारत में 'कोरोना' को मात देने की क्षमता, लेकिन सिर्फ लॉकडाउन काफी नहीं -WHO

भारत में 'कोरोना' को मात देने की क्षमता, लेकिन सिर्फ लॉकडाउन काफी नहीं -WHO

वाशिंगटन: कोरोना वायरस की महामारी विश्व के प्रत्येक देश पर अपना असर दिखा रहा है. भारत में अभी ये दूसरे चरण पर चल रही है और तीसरी चरण को रोकने के लिए भारत ने 21 दिनों के लॉकडाउन जैसा कड़ा फैसला लिया है. विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने भी भारत के इस फैसले की प्रशंसा की है और कहा है कि भारत ने जल्दी ही देश में लॉकडाउन किया है जो एक प्रशंसनीय कदम है. 

हालांकि, इसके साथ ही WHO ने कहा है कि भारत को इस संक्रमण को रोकने के लिए कुछ अन्य फैसले भी करने होंगे क्योंकि केवल लॉकडाउन से इसका खतरा नहीं टलेगा. WHO चेयरमैन डॉ. ट्रेडोस, माइकल रेयान, डॉ. मारिया वैन ने मीडिया से भारत से संबंधित मसलों पर बात की. जब उनसे भारत के लॉकडाउन और तीसरे चरण पर सवाल पूछा गया तो उन्होंने कहा कि केवल लॉकडाउन से कोरोना का खतरा नहीं टलता है.

WHO के चेयरमैन डॉ. ट्रेडोस ने कहा कि, ‘भारत के पास कोरोना को मात देने की क्षमता है और ये अच्छी बात है कि उन्होंने बहुत पहले ही लॉकडाउन करने का फैसला लिया है. तीसरे चरण को लेकर WHO चेयरमैन ने कहा कि जिन देशों में सही समय पर कड़े फैसले नहीं लिए गए और सावधानियां नहीं बरती गईं वहां पर इसका बुरा असर दिख रहा है, ऐसे में हर किसी के सामने यही चुनौती है कि सही कदम उठाए जाएं.

कोरोना: बिना खाना-पानी के जमीन पर सोकर दिन काटने को मजबूर दुबई में फंसे भारतीय

सिर्फ ये तीन काम करके 'कोरोना' से जीता दक्षिण कोरिया, अब अमेरिका भी मांग रहा मदद

दुनियाभर में फैला कोरोना का खौफ, घरों में कैद हुई 20 फीसदी आबादी