दिल्ली की हर ​इमारत नहीं कर सकती भूकंप का सामना, वैज्ञानिकों ने किया चौकाने वाला खुलासा

 

भारत में आने वाले किसी भी भूकंप का सामना करने के लिए दिल्ली-एनसीआर की हर ऊंची इमारत असुरक्षित नहीं है.इस बात की तसदीक वैज्ञानिकों द्वारा तैयार की गई हालिया रिपोर्ट में भी की गई है.वैज्ञानिकों के अनुसार, यह कहना गलत है कि यहां की हर ऊंची इमारत भूकंप के कम तीव्रता के झटकों में दरक जाएगी.हालांकि, अपनी रिपोर्ट में वैज्ञानिकों ने चेताया भी है कि इन इमारतों का गलत तरीके से निर्माण इन्हें रेत में भी धंसा सकता है.

पीएम मोदी का बड़ा ऐलान, टीके के लिए देगा 113 करोड़ रूपए

अपने बयान में वैज्ञानिकों ने यह भी कहा है कि सिस्मिक जोन-4 में आने वाली राजधानी दिल्ली भूकंप के बड़े झटके से खासा प्रभावित हो सकती है.अगर यहां 7 की तीव्रता वाला भूकंप आया तो दिल्ली की कई सारी इमारतें और घर रेत की तरह भरभराकर गिर जाएंगे.ऐसा इसलिए है, क्योंकि यहां की इमारतों में इस्तेमाल होने वाली निर्माण सामग्री ऐसी है, जो भूकंप के झटकों का सामना करने में पूरी तरह से सक्षम नहीं है.दिल्ली में मकान बनाने की निर्माण सामग्री ही आफत की सबसे बड़ी वजह है.इससे जुड़ी एक रिपोर्ट वल्नेबरिलिटी काउंसिल ऑफ इंडिया ने तैयार की थी, जिसे बिल्डिंग मैटीरियल एंड टेक्नोलॉजी प्रमोशन काउंसिल ने प्रकाशित किया है।

किसी भी दुश्मन को पलभर में समाप्त कर सकता है भारत, इस देश से हुआ महत्वपूर्ण समझौता

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि दिल्ली के 91.7 प्रतिशत मकानों की दीवारें पक्की ईंटों से बनी हैं, जबकि कच्ची ईंटों से 3.7 प्रतिशत मकानों की दीवारें बनी हैं.विशेषज्ञों का मानना है कि कच्ची या पक्की ईंटों से बनी इमारतों में भूकंप के दौरान सबसे ज्यादा दिक्कत आती है.ऐसे में इस मैटीरियल से बिल्डिंग को बनाते वक्त सावधानी बरतनी चाहिए और विशेषज्ञों से सलाह जरूर लेनी चाहिए.घोष ने कहा कि रियल एस्टेट एजेंसियों, कांट्रेक्टर, बिल्डर, आर्किटेक्ट, प्लानर्स, बिल्डिंग मालिकों, कंस्ट्रक्शन मैटीरियल सप्लायर्स, सिविल इंजीनियर्स, नगरपालिका के अधिकारियों, डीडीए, एमसीडी, डीयूएसी, दिल्ली फायर सर्विस, पुलिस आदि को नेशनल बिल्डिंग कोड 2016 का पालन करना चाहिए।

कर्नाटक और झारखंड में अलसुबह आया जोरदार भूकंप, प्रकृति प्रकोप से दहशत में है लोग

आतंकी और सुरक्षाबलों में जबरदस्त मुठभेड़, एक आतंकवादी ढेर

लॉकडाउन की सारी मेहनत पर फिरा पानी, एक दिन में रिकार्ड कोरोना मरीज आए सामने

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -