31 अक्टूबर, 2020 तक MSMEs के ऑनलाइन पंजीकरण पोर्टल ने पुरे किए लाखों रजिस्ट्रेशन

केंद्रीय एमएसएमई मंत्रालय द्वारा शुरू किए गए Udyam ऑनलाइन पंजीकरण 1 जुलाई, 2020 से शुरू हुए, अब तक 11 लाख से अधिक एमएसएमई सफलतापूर्वक पंजीकृत पाए गए हैं। मंत्रालय द्वारा एमएसएमई के पंजीकरण की परिभाषा और प्रक्रिया में संशोधन किया गया है। मंत्रालय ने एमएसएमई रजिस्ट्रेशन (https://udyamregistration.gov.in) के लिए नया पोर्टल शुरू किया है। 31 अक्टूबर, 2020 तक 11 लाख से अधिक एमएसएमई पंजीकृत हो चुके हैं।

पोर्टल सीबीडीटी और जीएसटी नेटवर्क के साथ समेकित रूप से एकीकृत है और साथ ही साथ यह बिना कागजात एमएसएमई पंजीकरण सुनिश्चित करता है। MSME क्षेत्र की स्थापना जैसे MSME- विकास संस्थान, MSME प्रौद्योगिकी केंद्र, NSIC, KVIC, कॉयर बोर्ड को मंत्रालय द्वारा उद्योग पंजीकरण के लिए उद्यमियों को पूर्ण समर्थन देने का निर्देश दिया गया है। सभी जिला मजिस्ट्रेट और जिला उद्योग केंद्रों से MSMEs द्वारा पंजीकरण में तेजी लाने का अनुरोध किया गया है। देश भर में केंद्रीय नियंत्रण कक्ष और 68 राज्य नियंत्रण कक्षों के अपने नेटवर्क के माध्यम से मंच 'पंजीकरण से संबंधित शिकायतों का समर्थन कर रहा है।

10 लाख रजिस्टरों में से, 3.72 लाख उद्यम विनिर्माण श्रेणी के अंतर्गत आते हैं और 6.31 लाख सेवा क्षेत्र के अंतर्गत, पुरुष और महिला स्वामित्व के आंकड़े 7.98 लाख पुरुष और 1.73 लाख महिला उद्यमियों द्वारा, सूक्ष्म और लघु, मध्यम उद्यम शेयर खातों में 93.1%, 5.62 तक आते हैं। शीर्ष 5 औद्योगिक क्षेत्र खाद्य उत्पाद, कपड़ा, परिधान, निर्मित धातु उत्पाद और मशीनरी और उपकरण और शीर्ष 5 राज्य महाराष्ट्र, तमिलनाडु, राजस्थान, उत्तर प्रदेश और गुजरात, ये हैं इकाइयों ने 1,01,03,512 व्यक्तियों को रोजगार प्रदान किया है। पैन के बिना पंजीकरण की अनुमति 31.03.2021 तक और बिना जीएसटी के 31.03.2021 तक है। यह पंजीकरण नि: शुल्क है और सभी एमएसएमई से अनुरोध है कि वे उद्योग से लाभ उठाने के लिए खुद को पंजीकृत करें।

आलोचना के बाद गोवा सरकार ने सनबर्न ईडीएम फेस्टिवल की अनुमति को किया रद्द

ACABQ पर संयुक्त राष्ट्र सलाहकार समिति के लिए चुने गए भारतीय राजनयिक

सरकार अपनी सरकारी मशीनरी का कर रही है दुरुपयोग: रमेश चेन्निथला

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -