पांच जून को ऐसा नजर आएगा चंद्रग्रहण

Jun 04 2020 01:40 PM
पांच जून को ऐसा नजर आएगा चंद्रग्रहण

चंद्र ग्रहण भी सूर्य ग्रहण की तरह ही एक खगोलीय घटना होती है. वैज्ञानिक रूप से ये जितना महत्वपूर्ण माना गया है उतना ही महत्वपूर्ण ये धार्मिक व ज्योतिषीय दृष्टि से भी मना जाता है. चंद्रमा पर धरती की छाया पड़ने से चंद्र ग्रहण लगता है. लेकिन 5 जून को लगने वाला ग्रहण उपच्छाया चंद्र ग्रहण होगा. ज्योतिष में उपच्छाया को ग्रहण का दर्जा नहीं दिया गया है. जिस वजह से इसका सूतक काल भी नहीं माना जाता. ये ग्रहण वृश्चिक राशि और ज्येष्ठा नक्षत्र में लगने जा रहा है. जो भारत में भी दिखाई देगा.  

बता दें की ग्रहण का समय क्या होने वाला है. उपच्छाया चंद्र ग्रहण की शुरुआत 5 जून की रात 11 बजकर 16 मिनट से हो जाएंगी और इसकी समाप्ति 6 जून की रात 2 बजकर 32 मिनट के करीब होगी. जबकि रात 12 बजकर 54 मिनट पर ये ग्रहण अपने पूर्ण प्रभाव में होगा. दरअसल, चंद्र ग्रहण का सूतक ग्रहण लगने से 9 घंटे पहले शुरू हो जाता है.  

वहीं, 5 जून को घटित होने वाला यह ग्रहण उच्छाया चंद्र ग्रहण होगा. जो 5 जून और 6 जून की आधी रात को घटित होगा. यह ग्रहण उपच्छाया चंद्र ग्रहण होने के वजह से चांद के आकार और छवि में कोई खास बदलाव देखने को नहीं मिलेगा. इस दिन चांद की छवि धूमिल सी दिखाई देगी. वहीं, अफ्रीका स्थित बाटामालिबा के लोग का मानना है कि चंद्र और सूरज के बीच की लड़ाई के वजह से चंद्रग्रहण लगता है. उनका ये भी मानना है कि उस लड़ाई को खत्म करना चाहिए. इन दिन लोग चांद और सूरज की पुरानी लड़ाई को भूलने की कोशिश करते हैं.

आग की लपटों में घिरा राजकुमार मिल, गोदाम हुआ जलकर खाक

निसर्ग तूफान: मध्य प्रदेश में जारी किया गया अलर्ट, लोगों से की गई ये अपील

बेटे को उम्रकैद दिला चुकी यह मां, हालत देखकर अफसर बना रहे मकान