कर्नाटक परिणाम: कांग्रेस की मदद से भगवा होता भारत

कर्नाटक विधान सभा चुनावों के परिणामों की बात करे तो अब तक बीजेपी ने 44 कांग्रेस ने 17 और जेडीएस ने 5 सीट जीत ली है.  वही बीजेपी 107 कांग्रेस 72 और जेडीएस 41 सीट पर आगे चल रही है. चार साल 26 राज्य और दो विजय के साथ कांग्रेस का सिमटता दायरा ये गवाही दे रहा है कि देश में मोदी की लहर किस कदर व्याप्त है. देश की सबसे बड़ी और पुरानी पार्टी आज हाशिये पर है और इसकी चुनिंदा वजहों में से दो प्रमुख है एक खुद की कमजोरी दूसरी मोदी की बेशुमार मजबूती.

जहां बीजेपी ने पुरे भारत को भगुआ करने का वादा खुद से करते हुए लगातार शानदार रणनीति के तहत चुनावी योजनाओ का क्रियान्वन किया, वही कांग्रेस खुद से ही लड़ती रही. भितरघात और कमजोर रणनीति के साथ टीम की कमी कांग्रेस की तैयारी में साफ नज़र आ रही है. तभी तो देश के सिहांसन पर 60 बरस से ज्यादा समय तक राज करने वाली पार्टी महज चार साल में 2.5 फीसदी आबादी में सिमट चुकी है. हार, हार और लगातार हार से विचलित हों चुकी कांग्रेस और उसके नेता अब बगले झांक रहे है. सवाल शीर्ष नेतृत्व पर भी खड़े हो रहे है.

मामला अस्तित्व की लड़ाई का हो गया है. हर हार के  बाद मंथन और हार की जिम्मेदारी का भाषण दे देना ही शीर्ष क्रम का काम नहीं है. ऊर्जा की कमी और संघटनात्मक ढांचे में दरारे एक दम से नहीं हुई है. शनैः - शनैः विघटन ने कांग्रेस के किले को जर्जर पहले ही कर दिया था. जिस पर बीजेपी के मजबूत  विपक्ष का एक सही वार पड़ते ही वो भरभरा कर गिर चुका है. हालात गंभीर है इलाज दिख नहीं रहा और खुद की गलतियों का परिणाम है, दक्षिण के एक और सूबे की सत्ता का हाथ से निकल जाना. कठिन निर्णय सही नेतृत्व ही इसका एक मात्र इलाज है. हालांकि अब तक देर हो चुकी है फिर भी.............  

 

कर्नाटक चुनाव: राज्यवर्धन की नज़र में सारे विपक्ष 'गन्दगी'

कर्नाटक LIVE: बीजेपी 44 कांग्रेस 17 जेडीएस 5 सीटों पर विजय

कर्नाटक चुनाव: मोदी लहर अब भी बरक़रार- रामविलास पासवान

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -