सियासी रण पर जल्द उतरेगी रैना की युवा सेना, इस तरह होगी नई टीम

सियासी रण पर जल्द उतरेगी रैना की युवा सेना, इस तरह होगी नई टीम

जम्मू: प्रदेश भाजपा की नई टीम संतुलित होती जा रही है. वहीं नई टीम में अध्यक्ष समेत पदाधिकारियों की संख्या 21 की जानी वाली है. टीम में युवाओं और महिलाओं को तरजीह मिलेगी. कुछ पुराने चेहरों को बदलकर नए चेहरों को प्रदेश टीम में मौका दिया जा सकता है. एक पद पर पांच साल तक रहने वाले पदाधिकारियों की छुट्टी भी हो सकती है. प्रदेश अध्यक्ष रवींद्र रैना की ओर से प्रदेश पदाधिकारियों की संभावित सूची केंद्रीय नेतृत्व को भेज दी गई है. कुल 50 नाम भेजे गए हैं, जिस पर विचार-विमर्श के बाद 20 पदाधिकारियों के नामों को केंद्रीय नेतृत्व मंजूरी देगा. नई टीम में महासचिव-तीन, उपाध्यक्ष और सचिव आठ-आठ तथा कोषाध्यक्ष होंगे.

मिली जानकारी के अनुसार पुरानी टीम में 12-12 उपाध्यक्ष और सचिव थे. नई टीम में 5 महिलाओं को स्थान दिया जा सकता है, जबकि पुरानी टीम में तीन महिलाएं थीं. महिला, युवा, किसान मोर्चा समेत सात मोर्चों के अध्यक्ष पद के लिए तीन-तीन नामों का पैनल केंद्रीय नेतृत्व को भेजा गया है. इनमें से एक नाम को मंजूरी दी जाएगी. सूत्रों का कहना है कि उपाध्यक्ष और सचिव पद पर एडजस्टमेंट करने में दिक्कतें आ सकती हैं. ऐसे में इनकी संख्या आठ-आठ से बढ़ाई जा सकती है. प्रदेश अध्यक्ष रवींद्र रैना ने बताया कि संभावित नामों की सूची केंद्रीय नेतृत्व को भेज दी गई है. संविधान के अनुसार अध्यक्ष को लेकर 21 पदाधिकारी होंगे

शिवरात्रि के बाद टीम का एलान संभव: जंहा इस बात का पता चला है कि संभावित पदाधिकारियों की ओर से अब दिल्ली दरबार की परिक्रमा शुरू कर दी गई है. टीम में जगह बनाने के लिए संघ से लेकर भाजपा के केंद्रीय नेताओं के दरवाजे खटखटाए जा रहे हैं. जंहा प्रदेश अध्यक्ष ने बताया कि शिवरात्रि के बाद 25 से 28 फरवरी के बीच नई टीम की घोषणा हो सकती है. इससे पहले 20 फरवरी तक जिला व मंडल की टीम की घोषणा करनी है. उन्होंने बताया कि नई टीम की घोषणा होने के साथ ही पार्टी पूरी क्षमता के साथ जम्मू-कश्मीर में अपने को मजबूत करने का अभियान शुरू किया जाएगा.

अभी ख़त्म भी नहीं हुआ है Corona का कहर और ब्राज़ील में मिल गया सबसे बड़ा Yaravirus

कमलनाथ और सिंधिया की लड़ाई पर बोले शिवराज, कहा- ये सरकार नहीं, सर्कस है

सीएम ठाकरे से नाराज़ शरद पवार ने बुलाई NCP नेताओं की मीटिंग, महाराष्ट्र सरकार पर मँडराया संकट