ये है सस्ती कीमत का शानदार जीवनदायी वेंटिलेटर

लॉकडाउन और कोरोना संक्रमण के बीच आइआइटी हैदराबाद के सेंटर फॉर हेल्थकेयर एंटरप्रेन्योरशिप में इंक्यूबेट किए गए स्टार्ट अप ‘एयरोबायोसिस इनोवेशंस’ ने कम कीमत वाला पोर्टेबल वेंटिलेटर विकसित किया है. ‘जीवन लाइट’ नामक इस वेंटिलेटर से स्वास्थ्यकर्मियों को संक्रमण से बचाया जा सकेगा, क्योंकि इसे एक एप से संचालित किया जा सकता है. जहां बिजली की पर्याप्त आपूर्ति है, वहां इसे बैट्री से भी चलाया जा सकता है.

क्या चालू किए जा सकते है उद्योग-धंधे ?

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि देश-दुनिया में फैली महामारी से लड़ने के लिए इंजीनियरिंग कॉलेजों से लेकर शोध संस्थानों तक में हर तरह की कोशिशें जारी हैं. इसी कड़ी में एयरोबायोसिस के सह-संस्थापकों राजेश थंगावेल एवं साइरिल एंटनी ने जीवन लाइट नाम से एक वेंटिलेटर विकसित किया है. इसका हैदाराबाद स्थित टर्शियरी केयर अस्पताल में क्लीनिकल परीक्षण भी किया जा चुका है. राजेश बताते हैं कि वे कोशिश कर रहे हैं कि आने वाले तीन से चार महीने में अपने इंडस्ट्रियल पार्टनर की मदद से प्रति दिन 50 से 60 यूनिट वेंटिलेटर्स का निर्माण किया जा सके, ताकि एक लाख लोगों तक इस वेंटिलेटर का फायदा पहुंच सके.

यहां पर लोगों की आवाजाही पर होगी रोक, नए प्रकार का होगा लॉकडाउन

इस मामले को लेकर राजेश बताते हैं कि जिन मरीजों को कनवेंशनल वेंटिलेटर पर रखा जाता है, उनमें अलव्यूलर डैमेज एवं ऑक्सीजन टॉक्सिटी का खतरा होता है. अपनी फेलोशिप के दौरान हमने देशभर के मरीजों, अस्पताल प्रबंधकों एवं स्वास्थ्य विशेषज्ञों से बात कर इस समस्या को जानने-समझने की कोशिश की. फिर इस समस्या के समाधान के रूप में हमने स्मार्ट, हाइब्रिड वेंटिलेटर डेवलप करने का फैसला लिया. जैसा कि सभी जानते हैं कि कोविड 19 का सबसे अधिक खतरा बुजुर्गों औऱ बच्चों को है. इसके अलावा, हृदय रोग, डायबिटीज जैसी बीमारियों से ग्रसित लोगों में भी इसके संक्रमण का खतरा अधिक होता है.

दिल्ली-ग़ाज़ीपुर बॉर्डर पर मजदूरों ने किया हंगामा, सीएम योगी के आदेश पर यूपी में नहीं मिली एंट्री

इस स्थान पर गैस पाइप लीक होने की न्यूज़

क्या है राज्य में लॉकडाउन समाप्त करने को लेकर सीएम बिरेन सिंह की योजना

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -