'किसानों की मौत का कोई डाटा नहीं..', कृषि मंत्री पर भड़के किसान, कही ये बात

नई दिल्ली: केंद्र की मोदी सरकार ने बुधवार को संसद के जारी शीतकालीन सत्र के दौरान लोकसभा में दावा किया कि कृषि मंत्रालय के पास किसान आंदोलन में जान गंवाने वाे किसी किसान की मौत का कोई रिकॉर्ड नहीं है. केंद्र सरकार के इस बयान पर किसान नेताओं ने नाराजगी व्यक्त की है. उधर, किसानों की मौत के मामले में कांग्रेस ने भी सरकार पर हमला बोला है.

दोआबा किसान कमेटी के स्टेट चीफ जंगवीर सिंह चौहान ने कहा है कि, सरकार के पास IB से लेकर दिल्ली पुलिस तक हर प्रकार के डाटा हैं. यदि वे कह रहे हैं कि किसानों की मौत का डाटा नहीं है, तो ये गलत है. इसके बाद भी यदि सरकार कहती है, तो हम उन्हें मुआवजे के लिए किसानों की मौत का आंकड़ा देंगे. वहीं, केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के इस दावे पर कांग्रेस ने हमला बोला है.

कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि,  तोमर साहब, नाकामी छुपाने के लिए इतना बड़ा झूठ! जबकि हकीकत यह है कि 2020 में 10677 किसानों ने ख़ुदकुशी की. 4090 किसान वो जिनके अपने खेत हैं,  639 किसान जो ठेके पर भूमि लेकर खेती करते थे, 5097 वो किसान जो दूसरों के खेतों में कार्य करते थे. पिछले 7 सालों में 78303 किसान ख़ुदकुशी कर चुके हैं.  

फिजी ने अंतरराष्ट्रीय यात्रियों के लिए अपनी देश में आने की अनुमति दी

बदली इंडियन आर्मी की कॉम्बेट यूनीफॉर्म, जानिए क्या होंगे परिवर्तन?

फैंस दिल थाम कर बैठें, क्यूंकि जल्द ही निक जोनस के साथ नोरा फतेही आएंगी नज़र

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -