सरकार के आदेश के बाद भी कई डॉक्टरों ने पर्ची में नहीं लिखी जेनेरिक दवाइयां, अब भुगतना होगा खामियाज़ा

Dec 06 2018 08:10 PM
सरकार के आदेश के बाद भी कई डॉक्टरों ने पर्ची में नहीं लिखी जेनेरिक दवाइयां, अब भुगतना होगा खामियाज़ा

शिमला: हिमाचल प्रदेश सरकार ने डॉक्टरों को मरीजों की चिकित्सा पर्ची पर जेनेरिक दवाइयां लिखने के आदेश दिए हैं, लेकिन बावजूद इसके  डॉक्टर इस पर अमल नहीं कर रहे हैं. विभिन्न अस्पतालों से सरकार के पास लगभग ऐसे 400 डॉक्टरों की शिकायतें आई हैं, जिन्होंने पर्ची पर जेनेरिक दवाइयां नहीं लिखी हैं, अब सरकार कार्यवाही करते हुए इन्हें नोटिस जारी कर रही है.

NCAOR भर्ती : हर माह वेतन 60 हजार रु, यह है आवेदन की अंतिम तिथि

राज्य के स्वास्थ्य मंत्री विपिन सिंह परमार ने मामले की जानकारी देते हुए कहा कि डॉक्टरों को मरीजों की पर्ची पर जेनेरिक दवाइयां लिखना अनिवार्य किया गया है, केवल वही दवाइयां बाहर से लिखी जाएंगी, जो जन औषधि केंद्र में मौजूद नहीं होंगी. लेकिन इन निदेशों का पालन करना तो दूर, उल्टा शिकायतें आ रही हैं कि केंद्र में दवाइयां होने के बाद भी डॉक्टर दूसरी दवाइयां लिख रहे हैं, जो दूसरी जगह से मंगवानी पड़ रही हैं.

एटीएम कार्ड संभालने की झंझट खत्म, जल्द ही इसके बिना भी निकाल सकेंगे कैश

उन्होंने कहा कि कई मरीजों को नि:शुल्क दवाइयां भी उपलब्ध कराई जा रही हैं, करीब साढ़े तीन सौ तरह की दवाइयां इन जान औषधि केंद्रों में रखी गई हैं, जिनमे मुफ्त या बेहद कम दामों में दवाइयां मिल जाती हैं. उन्होंने बताया कि सरकार दोषियों पर कार्यवाही तो करेगी ही, साथ ही आवाम को तकलीफ न हो इसलिए जल्द ही और दवाइयों के टेंडर करने जा रही हैं.

खबरें और भी:-

 

शेयर बाजार : लगातार तीसरे दिन बाजार में दिखी बड़ी गिरावट, जानिये आज के महत्वपूर्णं आकड़ें

मोदी सरकार जल्द लागू कर सकती है डिजिटल करंसी, युद्धस्तर पर चल रही हैं तैयारियां

सराफा बाजार: लगातार तीसरे दिन बढ़े सोने के दाम, जानिये आज की कीमतें