छोटे से छोटे क्षेत्र की जरुरत बन गया है कंप्यूटर, जानिए इस दिन का इतिहास

जैसा की आप जानते ही होगें की आज के इस दौर में साक्षरता सबसे बड़ी जरूरतों में से एक है। इसका मानव जीवन में एक बड़ा प्रभाव पड़ता है। शिक्षा से ही मानव प्रगति की राह पर है। अब हम चाहे बात सामाजिक एवं आर्थिक विकास की करें दोनों में इसकी महत्वता है।  वैसे भी आज आप देख ही रहे है की आज का युग आम शिक्षा से ऊपर उठकर कंप्यूटर द्वारा शिक्षा प्राप्त कर रहा है।अब मानव जीवन के प्रत्येक कार्य डिजिटल हो रहे है।आल ही में नोटबंदी से लोगों के अधितर कार्य अब ऑनलॉइन (कंप्यूटर सिस्टम ) द्वारा किया जा रहा है। आने वाले कुछ समय पश्चात् मानव जीवन के प्रत्येक कार्य अब कंप्यूटरीकृत ही होगें।

दुनिया से निरक्षरता को समाप्त करने के उद्देश्य को ध्यान में रखते हुए 2 दिसम्बर को विश्व कम्प्यूटर साक्षरता दिवस मनाया जाता है।आज कम्प्यूटर के बिना कोई भी काम संभव नहीं है। यह एक बहुपयोगी वैज्ञानिक अविष्कार है।युद्ध के दौरान शत्रु के आक्रमण की पूर्व सूचना से लेकर दुश्मन के मिसाइल तथा सेना की उपस्थिति बताने का काम कम्प्यूटर करने लगा है। आज विश्व में कम्प्यूटर क्रांति आ गई है।आज हर एक क्षेत्र में कंप्यूटर अपने कदम बढ़ा रहा है।

2001 में लॉन्च किया गया, विश्व कंप्यूटर साक्षरता दिवस प्रत्येक वर्ष 2 दिसंबर को मनाया जाता है।यह दुनिया में मौजूद डिजिटल विभाजन को रोकने का लक्ष्य रखता है। दिवस का उद्देश्य इस 'विभाजन' के बारे में जागरूकता बढ़ाने और वंचित समुदायों के लिए सूचना प्रौद्योगिकी तक पहुंच बढ़ाने का लक्ष्य है। यह विभाजन उन समुदायों के बीच है जिन्हे सूचना प्रौद्योगिकी का लाभ नहीं मिलता एवं जिनके पास कंप्यूटर आसानी से उपलब्ध है। आज की पीढ़ी में कंप्यूटर एक बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। छोटी गणितीय समस्या को हल करने से लेकर दुनिया के सबसे बड़े मुद्दों पर शोध करने के लिए कंप्यूटर ही सब कुछ करता है। विश्व कंप्यूटर साक्षरता दिवस को विशेष रूप से घोषित किया जाता है और दुनिया में डिजिटलीकरण के महत्व को प्रोत्साहित करने के लिए मनाया जाता है। चूंकि आजकल सारा काम केवल कंप्यूटर से किया जाता है, लोगों को कंप्यूटर और उसके उपयोगों के बारे में साक्षर करना महत्वपूर्ण है।इसकी शुरुआत 2001 में भारतीय कंपनी NIIT द्वारा कंप्यूटर के प्रति जागरूकता को बढ़ावा देने के लिए की गयी। वर्तमान समय में हम एक ऐसे युग में जी रहे हैं जहाँ हम रोजमर्रा के कामों में कंप्यूटर का उपयोग करते हैं ऐसे में इसके इस्तेमाल के बारे में सभी का जागरूक होना बहुत ही आवश्यक है।

थाईलैंड के मंदिर में हुई छापेमारी, नशे में धुत्त मिले पुजारी

जनरल आसिम मुनीर ने पाकिस्तान के नए सेनाप्रमुख के रूप में संभाली कमान, पहले थे ISI चीफ

तेल-शराब के इंजेक्शन लगाकर बनाए डोले, हाल हुआ कुछ ऐसा कि लगाने पड़े 80 टांके

न्यूज ट्रैक वीडियो

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -