बांग्लादेश में बेचने के लिए भेजी जा रही थी सैकड़ों गाय, BSF ने इस तरह किया पर्दाफाश

Jan 20 2020 06:15 PM
बांग्लादेश में बेचने के लिए भेजी जा रही थी सैकड़ों गाय, BSF ने इस तरह किया पर्दाफाश

शिलॉन्ग: गौ तस्करी के विरुद्ध विशेष अभियान चला रही सीमा सुरक्षा बल (BSF) की टीम ने मेघालय में भारत-बांग्लादेश बॉर्डर पर बड़ी संख्या में गायों को बरामद किया है। बीते 21 दिनों से यह अभियान जारी है। आंकड़ों की माने तो बीएसएफ़ मेघालय फ्रंटियर ट्रूप्स ने पिछले 18 दिनों में 1,348 देशी गायों को बरामद कर बॉर्डर पार जाने से रोका है। इनकी कीमत स्थानीय बाजार के मुताबिक 2 करोड़ 20 लाख रुपए है।

मेघालय का ईस्ट जैंतिया और वेस्ट जैंतिया जिला भारत से बांग्लादेश में गौ तस्करी के लिए बेहद संवेदनशील इलाका  माना जाता है। BSF तस्करी कर भेजे जाने वाली गायों को पकड़ कर बॉर्डर के पास के पुलिस स्टेशन को हवाले कर देती है। पुलिस गायों को या तो किसी पशुधन का सरंक्षण केंद्र सर्कार को भेज देती हैं या नीलामी कर देती हैं। हालांकि, मेघालय में एक भी पशुधन आश्रय केंद्र मौजूद नहीं है। 

त्रिपुरा और असम में भारत-बांग्लादेश बॉर्डर के पास कुछ पशुधन आश्रय केंद्र स्थित हैं। मेघालय में बॉर्डर पर तस्करों से पकड़ी गई गायों को पुलिस नीलाम कर देती है, जिन्हें तस्कर फिर से खरीद लेते है और सीमापार भेजने के प्रयास में जुट जाते हैं। इस किस्म से भारत-बांग्लादेश बॉर्डर पर गायों की तस्करी का चक्र चलता रहता है। 2019 में गौ तस्करी की घटनाएं 2018 के मुक़ाबले ज्यादा हुई है।

आज ही फुल करवा लें अपनी गाड़ी का टैंक, आसमान पर पहुँचने वाले हैं पेट्रोल-डीजल के दाम

यूनिटेक बायर्स केस: यूनिटेक को टेक ओवर करेगी केंद्र सरकार, नियुक्त किए जाएंगे नए CMD

केरल की वामपंथी सरकार का बागी रुख, कहा- राज्य में लागू नहीं होने देंगे NPR