जम्मू में 5000 लोगों को मिलेगी क्वारंटीन की सुविधा

जम्मू में 5000 लोगों को मिलेगी क्वारंटीन की सुविधा

जम्मू: एक तरफ बढ़ रहा कोरोना का कहर अब इतना बढ़ चुका है. कि हर तरफ केवल तवाही का मंज़र देखने को मिल रहा है. जंहा अब तक इस वायरस से मरने वालों कि संख्या 19000 से अधिक हो चुकी है.  जंहा  कोरोना वायरस फैलने के खतरे को ध्यान में रखते हुए शहर व आसपास के इलाकों में क्वारंटीन के लिए 5000 बिस्तरों की व्यवस्था की जा रही है. इसके लिए कई सरकारी व निजी स्कूलों के अलावा होटलों को चिह्नित कर लिया गया है. उपराज्यपाल के दिशा निर्देश पर जिला प्रशासन ने तैयारी पूरी कर ली है. इन जगहों पर अगले कुछ दिन में बेड लगा दिए जाएंगे. 

मिली जानकारी एक अनुसार क्वारंटीन बनाने के साथ कई गैर सरकारी संस्थाओं का सहयोग लिया जा रहा है. प्रशासन ने कई होटलों को खाली करवाने की प्रक्रिया शुरू कर दी है. अंतरराज्यीय सीमाएं सील होने के कारण शहर के अधिकतर होटल पहले से खाली पड़े हैं. इसमें कई होटल प्रशासन को स्वैच्छिक तौर पर मदद देने के लिए आगे आ रहे हैं. वहीं यह भी कहा जा रहा है कि इन होटलों और स्कूलों में क्वारंटीन अवधि में उन लोगों को 14 दिन की निगरानी  में रखा जाएगा जो किसी पाजिटिव मामले में किसी तरह संपर्क में आए हैं. मौजूदा समय में श्री अमरनाथ यात्रा के आधार शिविर भगवती नगर जम्मू में 170, बनतालाब पहाड़ी हास्टल में 25, शिक्षक भवन गांधीनगर में 25, एनएचपीसी गेस्ट हाउस में 28, नरवाल स्थित एक होटल में कुछ लोगों को क्वारंटीन पर रखा गया है. 

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार केंद्र सरकार की एडवाइजरी में किसी भी पाजिटिव मामले के संपर्क में आने वाले या बाहरी राज्यों या देशों से आने वाले लोगों को क्वारंटीन में रहना अनिवार्य है. इसमें डाक्टरों की निगरानी में रखने पर कोई लक्षण मिलने पर पीड़ित का सैंपल लेकर उसे निगरानी में रखा जाता है.  इसके बाद पाजिटिव आने पर उसे आइसोलेशन वार्ड में शिफ्ट किया जाता है. 5000 बेड की क्षमता वाले क्वारंटीन के बाद परिस्थतियों के मुताबिक आगामी क्वारंटीन की योजना पर काम किया जाएगा.

कोरोना वायरस की दहशत में इस दिग्गज बांग्‍लादेशी नेता को मिली जेल से रिहाई

मप्र: राज्य में कोरोना से हुई पहेली मौत, टेस्ट से पहले भागा परिवार का संदिग्ध शख्स

भोपाल के बाद अब इंदौर में भी लागू हुआ कर्फ्यू, मध्य प्रदेश में कोरोना के 6 मामले दर्ज