लखीमपुर हिंसा में मारे गए भाजपा कार्यकर्ता के परिजनों से क्यों मिले ? किसान नेता योगेंद्र यादव सस्‍पेंड

नई दिल्ली: संयुक्त किसान मोर्चा (SKM) ने योगेंद्र यादव को एक माह के लिए निलंबित कर दिया है। SKM केंद्र सरकार के कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे किसान संगठनों का शीर्ष निकाय है। योगेंद्र यादव पर निलंबन की यह करवाई लखीमपुर खीरी हिंसा में मार डाले गए भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के कार्यकर्ता शुभम मिश्रा के घर जाने को लेकर की गई है।

इस मुलाकात के संबंध में यादव ने स्वयं ट्विटर पर जानकारी साझा की थी। उन्होंने लिखा था कि, 'शहीद किसान श्रद्धांजलि सभा से वापिसी में बीजेपी कार्यकर्ता शुभम मिश्रा के घर गए। परिवार ने हम पर गुस्सा नही किया। बस दुखी मन से सवाल पूछे: क्या हम किसान नहीं? हमारे बेटे का क्या कसूर था? आपके साथी ने एक्शन रिएक्शन वाली बात क्यों कही? उनके सवाल कान में गूंज रहे हैं!' कहा जा रहा है कि इस ट्वीट के बाद से ही योगेंद्र यादव के खिलाफ SKM में नाराजगी थी। उनके खिलाफ मोर्चा कार्रवाई करने की बात भी कह रहा था, मगर उससे पहले उन्हें माफी माँगने के लिए भी कहा गया था। गुरुवार (21 अक्टूबर 2021) को हुई SKM की बैठक में योगेंद्र यादव को एक माह के लिए सस्पेंड करने का फैसला लिया गया।

 

सूत्रों के अनुसार, पंजाब के कृषकों ने बड़ी ही आक्रामकता के साथ योगेंद्र यादव पर कार्रवाई किए जाने की माँग की थी। बैठक के दौरान योगेंद्र यादव ने शुभम मिश्रा परिवार से मुलाक़ात से पहले अपने सहयोगियों से सलाह न लेने के लिए क्षमा माँगी थी। किन्तु उन्होंने मृतक भाजपा कार्यकर्ता के परिवार से मिलने के लिए क्षमा नहीं माँगी। उनका कहना था कि उन्होंने संवेदना प्रकट कर कुछ भी गलत नहीं किया।

केंद्रीय मंत्रिमंडल ने प्रधानमंत्री गतिशक्ति राष्ट्रीय मास्टर प्लान को दी मंजूरी

61 हजार के नीचे आया सेंसेक्स, निफ्टी का रहा ये हाल

जापान में विदेशी आगंतुकों में आई 99 प्रतिशत से अधिक की गिरावट

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -