उत्तराखंड में बारिश ने मचाई तबाही, स्थिति देख भयभीत हो उठे लोग

देहरादून: देश के राज्य उत्तराखंड में वर्षा का कहर लगातार जारी है. पिथौरागढ़ शहर में वर्षा ने फिर तहलका मचा दिया है. वही  मूसलाधार वर्षा ने आपदाग्रस्त बंगापानी इलाके में फिर बड़ी हानि पहुंचे है.

वही वर्षा के पश्चात् गांव में पहाड़ी से अत्यधिक मात्रा में मलबा आ गया. मलबे से एक होटल दब गया है. वहीं नाले में एक बाइक बह गई, जबकि दो वाहन को बुरी तरह से हानि पहुंची हैं. साथ ही बंगापानी के साथ लुम्ती गांव में भी कई मवेशी नदी में बह गए हैं. गांव में चारों ओर मलबा पटा हुआ है. सड़कें ही नहीं घरों तक में मलबा भर गया है. स्थिति देख लोग डरे हुए हैं. वही पिथौरागढ़ की लाइफ लाइन पिथौरागढ़-घाट सड़क तीन क्षेत्रों पर मलबा आने से अवरुद्ध हो गई है. इसके अतिरिक्त 20 से ज्यादा सड़कों पर मलबा आया है. 

टनकपुर-पिथौरागढ़ राष्ट्रिय हाईवे भी आठवां मील तथा चल्थी में मलबा आने से प्रातः से अवरुद्ध है. यहां भी सड़क पर अत्यधिक मात्रा में मलबा तथा बोल्डर गिरे हुए हैं. वहीं ऋषिकेश-बदरीनाथ हाईवे आज प्रातः पागलनाला, कुहेड़ तथा नंदप्रयाग में भी अवरुद्ध हो गया. बदरीनाथ धाम की तीर्थयात्रा पर जा रहे यात्री भी मार्ग में फंसे हैं. यात्री हाईवे खुलने की प्रतीक्षा कर रहे हैं. मंगलवार रात्रि को केदारघाटी में मूसलाधार वर्षा से रुद्रप्रयाग-गौरीकुंड राष्ट्रिय हाईवे पर डोलिया मंदिर के समीप अधिक भूस्खलन हो गया. यहां भी भूस्खलन की वजह से हाईवे अवरुद्ध हो गया है. यमुनोत्री क्षेत्र में भी वर्षा होने से हाईवे ओजरी डबरकोट में भूस्खलन की वजह से अवरुद्ध हो गया है. इसी के साथ वहां के लोगों को मार्ग बंद होने से कई परेशानी का सामना करना पड़ा है. 

उत्तराखंड के इन जिलों में भारी वर्षा का कहर, बंद हुई सड़कें

'बाढ़' से देश के कई हिस्सों में तबाही, अब 20 अगस्त तक 11 राज्यों में भारी बारिश का अलर्ट

उत्तराखंड के तीन शहरों में सर्वाधिक वर्षा का अलर्ट, ऋषिकेश-गंगोत्री हाईवे अवरुद्ध

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -