चारधाम यात्रा में बढ़ती भीड़ को देखते हुए उत्तराखंड सरकार ने उठाया ये बड़ा कदम

देहरादून: उत्तराखंड में चल रही केदानाथ-बद्रीनाथ (Kedarnath-Badrinath) समेत चारधाम दर्शन के लिए 3 जून तक की बुकिंग पूरी हो चुकी है तथा 3 जून से पहले किसी भी धाम में पंजीकरण की इजाजत नहीं होगी। इसके साथ ही आपातकालीन स्थिति में पुलिस द्वारा किए जा रहे सीमित पंजीकरण को भी पूर्ण रूप से बंद कर दिया गया है। प्रदेश सरकार ने कहा कि यात्रा के इच्छुक लोग पर्यटन विभाग की वेबसाइट पर आगे की बुकिंग के लिए स्लॉट की जांच कर सकते हैं। प्रदेश में चारधाम यात्रा (Chardham Yatra) के लिए उमड़ रही भीड़ को देखते हुए लोगों ने अब अपनी बुकिंग कैंसिल करानी आरम्भ कर दी हैं।

वही प्रदेश सरकार का कहना है कि ग्रीन सिग्नल नजर आने के बाद ही लोग उस दिनांक के लिए पंजीकरण करा सकते हैं तथा जो लोग फर्जी पंजीकरण के सहारे यात्रा करेंगे उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। प्रदेश सरकार की ओर से पुलिस को कड़ी कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं तथा लोगों से अपील की गई है कि वे पर्यटन विभाग की वेबसाइट तथा ऐप के माध्यम से ही चारधाम के लिए पंजीकरण करवाएं। सरकार का कहना है कि इसके अतिरिक्त किसी अन्य पोर्टल से पंजीकरण नहीं कराया जा सकता है। राज्य के पर्यटन सचिव दिलीप जावलकर ने कहा कि चारधाम यात्रा के चलते कुछ तीर्थयात्रियों के फर्जी पंजीकरण के साथ आने की खबरें हैं तथा सरकार ने पुलिस से ऐसे लोगों के खिलाफ कार्रवाई करने को बोला है।

वही प्रदेश के पर्यटन सचिव ने कहा कि साइबर केप एवं अन्य माध्यमों से पंजीकरण कराने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने प्रदेश में चारधाम की यात्रा पर आने वालों लोगों से बोला कि वह वह पंजीकरण पर्यटन विभाग की वेबसाइट तथा मोबाइल ऐप के जरिए ही करें। उन्होंने बताया कि अब तक फर्जी पंजीकरण के लगभग 80 मामले पुलिस के सामने आ चुके हैं तथा इन लोगों से पूछताछ भी की जा रही है।

एशिया कप हॉकी में भारत ने सुपर-4 के पहले लीग मैच में जापान को दी मात

युवक ने नदी में बहाई 1.3 करोड़ की BMW कार, वजह सुनकर उड़े पुलिस के होश

बाइक से टकराई बारातियों से भरी बस, देखते ही देखते बन गई आग का गोला

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -