महाकाल मंदिर: कर्मचारी ने QR कोड के नीचे अपना मोबाइल नंबर डाला, दान निजी अकाउंट में जाने की आशंका

उज्जैन: उज्जैन स्थित महाकालेश्वर मंदिर के बैंक खाते में बड़ी गड़बड़ी सामने आयी है। जिसमें महाकाल मंदिर समिति के अकाउंट्स विभाग में नौकरी करने वाले कर्मचारी ने मंदिर समिति के QR कोड के नीचे अपना नंबर डाल दिया। जिसमे UPI के जरिए दान सीधा कर्मचारी के निजी बैंक अकाउंट में चला जाता। अब इस अकाउंट में दान की राशि जमा हुई या नहीं इसकी तहकीकात की जाएगी। कलेक्टर आशीष सिंह ने इस पर आपत्ति व्यक्त करते हुए जांच के आदेश मंदिर समिति के प्रशासक सुजान सिंह रावत को दिए हैं।

महाकाल मंदिर समिति के बैंक अकाउंट में QR कोड स्कैन से ऑनलाइन दान देने वाली प्रक्रिया पर सवाल उठ रहे हैं। दरअसल महाकालेश्वर मंदिर में अकाउंट्स में काम करने वाले विपिन रावत ने अपने व्हाट्सएप के स्टेटस और महाकाल मंदिर के ऑफिस में लगे बारकोड के नीचे UPI से संबंधित अपना व्यक्तिगत मोबाइल नंबर 9926070993 डाल दिया। श्रद्धालु महाकालेश्वर मंदिर के बैंक आकउंट में दान राशि अगर UPI द्वारा जमा करता है, दान राशि मंदिर के बैंक ऑफ इंडिया के खाते में न जाकर विपिन एरन के अकाउंट में जमा हो जाती है। हालांकि अब तक कितनी राशि एरन के अकाउंट में गई है, इसका पता लगाया जा रहा है।

उज्जैन कलेक्टर आशीष सिंह का कहना है कि मामले के संज्ञान में आते ही कर्मचारी के खाते का स्टेटमेंट मंगवा लिया गया है। अभी एक महीने के स्टेटमेंट में तो कुछ गड़बड़ी नहीं पाई गई है, किन्तु हम पूरे एक साल के स्टेटमेंट की जांच करेंगे। जांच में जो भी दोषी पाया जाएगा, उस पर कार्रवाई की जाएगी। वहीं, महाकालेश्वर मंदिर के कर्मचारी विपिन एरन का कहना है कि, मुंबई से आये QR कोड में मेरा मोबाइल नंबर लिखा हुआ आ गया था। मैंने महाकाल मंदिर को अधिक से अधिक दान मिले इसके चलते अपने व्हाट्सएप पर महाकाल मंदिर के अकाउंट का क्यूआर कोड डाला था, किन्तु गलती से मेरा नंबर भी उस में चला गया। हालांकि, बाद में हमने सभी जगह से नंबर हटा दिए हैं।

केन्या के राष्ट्रपति ने सूखे को घोषित किया राष्ट्रीय आपदा

कर्नाटक ने FDI में देश की अधिकतम हिस्सेदारी को किया आकर्षित

राष्ट्र विरोधी व्याख्यानों से बचने के लिए केरल केंद्रीय विश्वविद्यालय ने उठाया ये कदम

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -