इस टीम के कोच को टूथपेस्‍ट और क्रीम खरीदना पड़ा महंगा, देनी पड़ीं भारी रकम

कोरोना वायरस (Coronavirus) ने पूरी दुनिया में भारी तबाही मचा रखी है. इस महामारी ने पूरी द‍ुनिया को कैद कर दिया है. खेल इवेंट्स भी लंबे समय तक ठप्‍प पड़े हुए हैं. हालांकि कुछ जगहों पर खेल इवेंट्स शुरू करने की तैयारी की जा रही है, वो भी खाली स्‍टेडियम में और पूरी सावधानी के साथ. हर खेल प्रेमी के लिए इस मुश्किल समय में यह सुकून देने वाली बात हैं. मगर जहां पर खेल शुरू करने की तैयारी की जा रही है, वहां टीम और स्‍टाफ को क्‍वारंटाइन में रखा गया है. ताकि इस महामारी से बचा जा सके. मगर एक टीम के कोच को क्‍वारंटाइन में टूथपेस्‍ट और क्रीम खरीदना महंगा पड़ गया.

दरअसल आगसबर्ग के कोच हीको हेरलिच (Heiko Herrlich) को टूथपेस्ट खरीदने के लिए क्‍वारंटाइन के नियमों का उल्लंघन करना काफी महंगा पड़ गया और अब इस कारण बुंदेसलीगा के फिर से शुरू होने पर अपनी टीम को कोचिंग देने का मौका नहीं मिलेगा. हेरलिच को शनिवार को वोल्फ्सबर्ग के खिलाफ होने वाले मैच से जर्मनी की इस शीर्ष लीग में कोच के रूप में पदार्पण करना था. कोरोना वायरस के कारण लॉकडाउन से वह पहले ही दो महीने से इंतजार कर रहे थे. इस 48 वर्षीय कोच ने कहा कि मैंने होटल से बाहर निकलकर गलती की. मैं टूथपेस्ट और क्रीम खरीदने के लिए सुपरमार्केट चला गया था.

साल के शुरुआत में ही संभाला था पद: हीको हेरलिच ने कहा कि ऐसी परिस्थितियों में मैं अपनी टीम और जनता के सामने आदर्श व्यक्ति के तौर पर खरा नहीं उतरा. उन्‍होंने कहा कि मेरी इस गलती के कारण मैं शुक्रवार को अभ्यास और शनिवार को वोल्फ्सबर्ग के खिलाफ होने वाले मैच में टीम की अगुआई नहीं कर पाऊंगा. जर्मनी के इस पूर्व खिलाड़ी ने इस साल के शुरू में मार्टिन स्किमिट की जगह आगसबर्ग का कोच पद संभाला था. उनका अनुबंध 2022 तक है.

विराट कोहली ने शेयर किया अपना शानदार वीडियो

वजन में गिरावट के बाद रोमाकाश ने जीती बाज़ी

अपने प्यार के लिए पाकिस्तान छोड़ चुके है इमरान ताहिर, बेहद दिलचस्प है इनकी प्रेम कहानी

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -