यूपी से बिहार पहुंची लखीमपुर की 'आग', हो रहा है 'मौन' प्रहार

पटना: देश के सबसे बड़े राज्य यूपी के लखीमपुर खीरी में हुए कांड ने बिहार की राजनीती को भी गर्म कर दिया है। लखीमपुर में जिस प्रकार से अन्नदाताओं को गाड़ी से कुचल दिया गया, उसके विरुद्ध बिहार में विपक्ष ने मोर्चा खोल दिया है। इस केस में केंद्रीय राज्यमंत्री के अपराधी बेटे के विरुद्ध क़त्ल का मुकदमा चलाने की मांग विपक्ष कर रहा है। बिहार के साथ-साथ पूरे देश में कांग्रेस ने लखीमपुर के मामले को लेकर मोर्चा खोल दिया है। कांग्रेस ने इस मामले को जलियांवाला बाग की प्रकार का क्रूर नरसंहार बताया है।

वही एक ओर कांग्रेस ने लखीमपुर के मामले को लेकर भाजपा पर हमला बोल रखा है, तो दूसरी ओर सत्तापक्ष मामले में बचाव का मार्ग निकाल रहा है। सत्तापक्ष का कहना है कि 'कांग्रेस इस केस को राजनीतिक रंग देने का प्रयास कर रही है। बिहार में विधानसभा की दो सीटों पर होने वाले उपचुनाव को लेकर कांग्रेस इस मसले को भुनाने में लगी है।'

वही बिहार में सत्तापक्ष के विरोध का बीड़ा वैसे तो हमेशा से मुख्य विपक्षी पार्टी RJD उठाती रही है मगर इस बार ये बीड़ा कांग्रेस ने उठाया है। दरअसल, लखीमपुर में हुआ कांड पड़ोसी प्रदेश यूपी का है। ऐसे में कांग्रेस इसे राष्ट्रव्यापी मसला बनाने में जुटी हुई है। बिहार में भी कांग्रेस ने लखीमपुर के मामले को लेकर 'मौन व्रत' का निर्णय लिया है। पटना के आयकर गोलंबर पर कांग्रेस के सभी दिग्गज इकट्ठा हुए तथा तीन घंटे का 'मौन व्रत' धारण किया। कांग्रेस का कहना है कि 'फासीवादी ताकतों की खिलाफत करने का सबसे कारगर हथियार मौन होता है। 

इराकी प्रधानमंत्री का बड़ा बयान, कहा- "इराकी बलों ने इस्लामिक स्टेट के वरिष्ठ नेता को पकड़ा..."

फिर कांग्रेस में लौटे यशपाल आर्य

खाड़ी, यमन पर फोकस जारी रखने के लिए सऊदी के साथ बातचीत कर रहा ईरान

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -