1860 दिन वर्ल्ड नंबर 1 रह चुके हैं रोजर फेडरर, विराट इन्हे मानते हैं 'असली लीजेंड'

स्विट्जरलैंड के टेनिस स्टार रोजर फेडरर आज पूरे 40 वर्ष के हो गए हैं. वर्ष 1981 में 8 अगस्त को ही टेनिस के पर्याय बन चुके प्लेयर रोजर फेडरर का जन्म स्विट्जरलैंड के बेसेल शहर में हुआ था. उनकी मां साउथ अफ्रीकन हैं तो पिता स्विस हैं. यही कारण है कि रोजर फेडरर को दोनों देशों की नागरिकता प्राप्त है. बता दें कि रोजर फेडरर ने अपने अब तक के जीवन के 40 साल में से 23 साल प्रोफेशनल टेनिस को दिए हैं. इस दौरान उन्होंने रिकॉर्ड 20 ग्रैंडस्लैम खिताब अपने नाम किए हैं.

उन्होंने ATP रैंकिंग में 310 सप्ताह यानी 1860 दिन तक विश्व का नंबर वन प्लेयर बने रहने का रिकॉर्ड बनाया. इन 310 सप्ताह में 237 सप्ताह तक वो लगातार शीर्ष पर बने रहे. वो जिमी कॉर्नर के बाद सबसे अधिक ATP सिंगल्स का खिताब जीतने वाले टेनिस स्टार हैं. रोजर फेडरर टेनिस में तो माहिर हैं ही, पर क्रिकेट से भी उनका काफी लगाव है. क्रिकेट को लेकर अपने लगाव को वो कई बार प्रकट कर चुके हैं. अपने एक साक्षात्कार में उन्होंने कहा था कि जब मैं अमेरिका और यूरोप में होता हूं तो क्रिकेट के मैच देख पाना संभव नहीं हो पाता. लेकिन ऑस्ट्रेलिया और UAE जैसे देशों में होने पर मैं क्रिकेट के मुकाबले अवश्य देखता हूं.

क्रिकेट के भगवान कहे जाने वाले सचिन तेंदुलकर से उनकी अच्छी मित्रता है. रिपोर्ट्स के अनुसार, सचिन और फेडरर की पहली मुलाकात वर्ष 2011 में हुई थी और तभी से दोनों की दोस्ती गहराती चली गई. सचिन कई बार फेडरर का मैच देखते हुए विंबलडन कोर्ट पर भी नज़र आए हैं. वहीं, एक बार फेडरर भी यह कह चुके हैं कि वो अपने लिए यदि किसी को क्रिकेट खेलते देखना चाहेंगे, तो वो खिलाड़ी सचिन तेंदुलकर होंगे. टीम इंडिया के वर्तमान कप्तान विराट कोहली की रोजर फेडरर से पहली मुलाक़ात जनवरी 2015 में सिडनी में हुई थी और, पहली ही मुलाकात के बाद कोहली उनके जबरदस्त फैन बन गए. विराट ने अपने शब्दों में फेडरर को असली लीजेंड कहा था.

केन्या के एलियुड किपचोगे ने सफलतापूर्वक ओलंपिक मैराथन खिताब रखा बरक़रार

'ऐसा फेंका भाला कि सबको हिला डाला', 13 साल के बाद भारत आया पहला स्वर्ण पदक

किसान का वो बेटा जो 19 साल में बना आर्मी अफसर, अब भाला फेंककर कर रहा है देश का नाम रोशन

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -