आखिर क्यों जानलेवा है भारत की ओर बढ़ रहा चक्रवाती तूफान ?

देश में कोरोना संकट के बीच पूर्वी राज्‍यों में इस वक्‍त चक्रवाती तूफान 'एम्फन' का खतरा मंडरा रहा है. ये खतरा इसलिए भी अधिक है क्‍योंकि ये एक सुपर साइक्‍लोन है. इसकी वजह से चलने वाली हवा की गति 200 किमी प्रति घंटे से भी तेज हो सकती है. आपको बता दें कि भारत में इससे पहले इस तरह का सुपर साइक्‍लोन वर्ष 1999 में आया था जिसमें करीब 10,000 लोगों की मौत हो गई थी. भारत सरकार की तरफ से उसको राष्ट्रीय आपदा घोषित किया गया था. उससे भी पहले 3 नवंबर, 1970 को पूर्वी पाकिस्तान (अब बांग्लादेश) और पश्चिम बंगाल में भोला नाम का सुपर साइक्‍लोन आया था जिसको अब तक का सबसे अधिक भयावह चक्रवाती तूफान माना जाता है. इसमें करीब पांच लाख लोगों की मौत हुई थी और इस दौरान चलने वाली हवा की रफ्तार 240 किलोमीटर प्रति घंटे की थी. ये तूफान अपने साथ हर चीज को उड़ा और बहा ले गया था.

छत्तीसगढ़ से 1 हजार मजदूर अपने घर हुए रवाना

इस मामले को लेकर नेशनल साइक्‍लोन सिस्‍क मिटीगेशन प्रोजेक्‍ट (NCRMP) के मुताबिक कटक, पुरी और बालासोर में 1891 से 2002 के बीच करीब 83 बार चक्रवाती तूफान आ चुका है. इसमें यहां पर आने वाले सुपर साइक्‍लोन भी शामिल हैं. साइक्‍लोन को दरअसल कई चरणों में बांटा जाता है जिसके आधार पर इन्‍हें साइक्‍लोन या सुपर साइक्‍लोन की संज्ञा दी जाती है. 

भारतीयों को मिला 274 मिलियन अमेरिकी डॉलर जीतने का मौका, यहाँ जाने तरीका

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि सामान्‍य तौर पर आने वाले चक्रवाती तूफान के दौरान चलने वाली हवा की गति 34 से 47 किलो नॉट्स या 62 से 88 किमी प्रतिघंटा हो सकती है. वहीं इससे शक्तिशाली चक्रवाती तूफान के दौरान चलने वाली हवा की रफ्तार 48 से 63 किलो नॉट्स या 89 से 118 किमी प्रतिघंटा होती है. तीसरी श्रेणी में अधिक शक्तिशाली चक्रवाती तूफान आते हैं जिनमें हवा की रफ्तार 64 से लेकर 119 किलो नॉट्स या 119 से 221 किमी प्रतिघंटे की गति से हवाएं चलती हैं. इसके बाद चौथी और अंतिम श्रेणी सुपर साइक्‍लोन की होती है जिसमें हवा की रफ्तार 221 किमी प्रति घंटे से भी तेज होती है.

दो साल बाद श्रीनगर में एनकाउंटर, दो आतंकी ढेर, एक जवान शहीद

शादियों पर भी कोरोना का असर, दुल्हन ने वरमाला से पहले दूल्हे को पहनाया मास्क

पीएम मोदी से है दुनिया को उम्मीद, अब भारत को मिलेगी डब्ल्यूएचओ की कमान!

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -