सामाजिक कार्यकर्ता और पद्म श्री से सम्मानित शांति देवी ने दुनिया को कहा अलविदा

सोशल वर्करऔर पद्म श्री पुरस्कार से सम्मानित शांति देवी का कल रात्रि ओडिशा के रायगडा जिले के गुनुपुर में उनके आवास पर ही देहांत हो गया है। शांति देवी ओडिशा में एक जानी मानी सोशल वर्कर थीं। शांति देवी का जन्म 18 अप्रैल 1934 को हुआ था। सामाजिक कार्यकर्ता ने कोरापुट में एक छोटा आश्रम शुरू किया और बाद में रायगढ़ में सेवा समाज की स्थापना भी कर दी। सेवा समाज का गठन बालिकाओं के सर्वांगीण विकास के लिए कर दिया गया था। फिर यह सामाजिक कार्य की कभी न समाप्त होने वाली यात्रा थी जहां उन्होंने गनपुर में एक और आश्रम स्थापित कर दिया था। इस आश्रम ने अनाथ और बेसहारा बच्चों की शिक्षा, व्यावसायिक प्रशिक्षण, पुनर्वास की दिशा में भी कार्य किया।

पीएम मोदी ने जताया शोक: पीएम मोदी ने दुःख जाहिर हुए बोला है कि शांति देवी जी को गरीबों और वंचितों की आवाज के रूप में याद किया जाने वाला है। उन्होंने दुखों को दूर करने और एक स्वस्थ और न्यायपूर्ण समाज बनाने के लिए निस्वार्थ भाव से अपने काम को पूरा किया। उनके देहांत से आहत हूं। मेरे विचार उनके परिवार और अनगिनत प्रशंसकों के साथ हैं। शांति।

आदिवासी लड़कियों के उत्थान के लिए काम किया: मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार शांति देवी ने आदिवासी लड़कियों के आगे बढ़ने के लिए बहुत कार्य कर चुकी है। उन्होंने शिक्षा के माध्यम से आदिवासी लड़कियों के उत्थान के लिए अपना अमूल्य भूमिका भी निभा चुकी है। समाज सेवा आंदोलन के प्रमुख अग्रदूतों में से एक के रूप में, उन्हें वर्ष 2021 में देश के सबसे प्रतिष्ठित नागरिक पुरस्कारों में से एक 'पद्म श्री' से सम्मानित किया जा चुका है।

जहां शांति देवी के देहांत पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने शोक व्यक्त करते हुए पोस्ट किया है- जनजातीय समाज और महिलाओं के उत्थान तथा रोगियों की सेवा को अपने जीवन का ध्येय बनाने वाली श्रीमती शांति देवी जी के निधन से दुःख हुआ। उन्हें पद्मश्री से सम्मानित करने का अवसर मुझे हाल ही में प्राप्त हुआ था। उनके परिवार व प्रशंसकों के प्रति मेरी शोक-संवेदनाएं।

शर्मनाक: प्रेमिका के धमकाने पर स्टेशन पहुंचे प्रेमी ने कर डाला ये काम

उत्तराखंड में बढ़ा कोरोना का कहर, लगातार सामने आ रहे है संक्रमण के केस

सत्येंद्र जैन का दावा, कहा- ''दिल्ली में आज आएंगे 14-15 हजार कोरोना के केस..."

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -