इन्होंने की थी अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी की स्थापना

सर सैयद अहमद खान एक शिक्षक व नेता थे जिनका जन्म 17 अक्टूबर 1817 को दिल्ली में हुआ था. उन्होंने मुहम्मदन एंग्लो-ओरिएण्टल कॉलेज की स्थापना की जो बाद में अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के रूप में विकसित हुआ. जब वे 22 वर्ष के थे तब उनके पिता की मृत्यु हो गयी थी. 1830 में उन्होंने ईस्ट इंडिया कंपनी में लिपिक के पद पर पर काम किया बाद में 1841 उप न्यायधीश की योग्यता हासिल की और न्यायिक विभाग में विभिन्न स्तरों पर काम किया।

वे एक बहुत ही प्रभावशाली मुस्लिम नेता थे जो समाज में मुस्लिमो की सामाजिक और आर्थिक हालत को लेकर काफी चिंतित थे इसलिए उन्होंने शिक्षा ज़ोर दिया। सर सैयद ने एक किताब भी लिखी जिसका शीर्षक था असबाब-ए-बग़ावत-ए-हिन्द, इस किताब में उन्होंने ब्रिटिश सरकार नीतियों की आलोचना की.

1857 की क्रांति ने उनपर गहरा प्रभाव डाला, इस क्रांति में उनके कई संबंधियों की भी मृत्यु हो गयी थी जिसके कारण उन्होंने भारत छोड़ मिस्त्र जाने का भी फैसला कर लिया था लेकिन बाद में उन्होंने अपना विचार बदल दिया और वे भारत में ही रुके रहे उन्होंने कई लेख भी लिखे जिनमे से कुछ है - अतहर असनादीद, असबाबे-बगावते-हिंद, आसारुस्सनादीद। सर सैयद की 27 मार्च 1898 को ह्रदय रोग की वजह से मृत्यु हो गयी थी.

खबरें और भी 

सुर्खियां: ये है देश और दुनिया की अब तक की सबसे बड़ी ख़बरेंदिल्ली होटल विवाद:

बसपा नेता के बेटे के खिलाफ सर्कुलर नोटिस जारी, आर्म्स एक्ट के तहत दर्ज हुआ मामला

बंगाल में नहर में गिरी बस, 6 की मौत, 20 गंभीर रूप से घायल

 

 

 

 

 

 

 

 

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -