केदारनाथ त्रासदी: 3000 से अधिक लापता शवों के लिए तलाशी अभियान शुरू, 10 टीमों का हुआ गठन

Sep 17 2020 12:47 PM
केदारनाथ त्रासदी: 3000 से अधिक लापता शवों के लिए तलाशी अभियान शुरू, 10 टीमों का हुआ गठन

देहरादून: वर्ष 2013 में उत्तराखंड के केदारनाथ में आपदा में हजारों लोग मारे गए थे और लगभग इतने ही लापता हो गये, जिनका अभी तक कुछ पता नहीं सका है. उत्तराखंड पुलिस ने एक बार फिर से लापता और मारे लोगों के शवों का तलाशी अभियान शुरू कर दिया है, जहां उनका DNA टेस्ट करने के बाद अंतिम संस्कार किया जाएगा.

अब से शुरू किए जाने वाले सात (एक हफ्ते) दिवसीय सघन खोजबीन अभियान के लिए पुलिस ने दस टीमें गठित की हैं. नर कंकालों की तलाश के लिए विगत छह वर्षों में शासन द्वारा कई तलाशी अभियान चलाए जा चुके हैं, जिसमें 700 से अधिक कंकाल बरामद हुए थे, जबकि अभी भी 3000 से अधिक लोगों के शव नहीं मिल सके हैं. बता दें कि 2013 की आपदा के दौरान इंडियन आर्मी और पुलिस ने हजारों लोगों का रेस्क्यू कर उनकी जान बचाई गयी थी. रेस्क्यू दलों द्वारा चार हजार से ज्यादा शव बरामद किए गए थे, किन्तु 37 सौ से अधिक लोग तब से अब तक लापता हैं. कई बार तलाशी अभियान चलाया गया, जिसमें पुलिस को 700 शव बरामद करने में कामयाबी मिली थी. 

आज से दोबारा पुलिस द्वारा कंकालों की तलाश आरंभ की जा रही है. इसके लिए पुलिस और SDRF द्वारा संयुक्त रूप से दस टीमों के जरिए सर्च अभियान चलाया जाएगा. स्थानीय निवासियों की भी सहायता ली जाएगी. स्थानीय निवासियों को सभी प्रकार की जानकारी बाकी लोगों से ज्यादा होती है और वो रास्तों से भी अंजान नहीं होते हैं.

रेड निशान पर खुला शेयर मार्केट, इतने अंक की आई गिरावट

पीएम मोदी के बर्थडे पर 'बेरोज़गार दिवस' मना रही कांग्रेस, राहुल बोले- रोज़गार को कब सम्मान देगी सरकार ?

अब इन छोटे उद्योगों को मिल पाएगा 50 लाख तक का होम लोन