कश्मीर घाटी से जम्मू लौट रहे अलपसंख्यक, कहा- 'सुरक्षा की गारंटी कौन देगा'

कश्मीर घाटी में अल्पसंख्यकों में चिंता और भय का आलम देखने के लिए मिल रहा है। जी दरअसल यहाँ पर कई सरकारी कर्मचारी, शिक्षक कश्मीरी पंडित और सिख समुदाय जम्मू लौटने लगे हैं। इसी के साथ कुछ ऐसे हैं जो सुरक्षा की बढ़ती चिंताओं की वजह से ट्रांसफर की मांग कर रहे हैं, और कई लोग ऐसे भी हैं जो अपने काम पर ही नहीं जा रहे हैं। जी दरअसल श्रीनगर में शिक्षा विभाग में कनिष्ठ सहायक सुशील बीते शुक्रवार तड़के जम्मू लौट आए और उसके बाद उन्होंने कहा, 'हम कश्मीर से बाइक पर भागे और जम्मू लौट आए। श्रीनगर में एक सिख महिला प्रिंसिपल और एक कश्मीरी हिंदू शिक्षक की लक्षित हत्या ने उन्हें सभी के लिए आँखों में चुभने वाला और संदिग्ध बना दिया है।'

आगे उन्होंने कहा, 'उनके मुस्लिम सहयोगी मददगार थे, लेकिन यह सरकार को सोचना है कि क्या अल्पसंख्यक समुदाय के कर्मचारी ऐसी परिस्थितियों में सुरक्षित महसूस कर सकते हैं। अल्पसंख्यक समुदाय के शिक्षक घाटी के दूर-दराज के पहाड़ी इलाकों में तैनात हैं। वे जम्मू लौटने के अलावा क्या कर सकते हैं?' आगे उन्होंने कहा, 'कश्मीर में सड़क पर चलते हुए हमें एक ही ख्याल आ रहा है कि जो कोई भी हमारी तरफ देख रहा है वो हमें गोली मार देगा। जम्मू लौटने वालों के लिए सुरक्षा सबसे बड़ी चिंता है।'

मोहित रैना (बदला हुआ नाम) का कहना है जब वह केवल दो साल के थे, तब उनका परिवार 1990 में धमकियों और हत्याओं के बाद एक लाख से अधिक पंडितों के साथ कश्मीर से भाग गया था। वहीं ढाई दशक बाद, वह 2015 में प्रधानमंत्री पैकेज के तहत जम्मू-कश्मीर शिक्षा विभाग में नौकरी के साथ श्रीनगर लौट आए थे। हालाँकि बीते शुक्रवार को मोहित अपनी पत्नी के साथ अनंतनाग से जम्मू के लिए रवाना हुए। उनका कहना है, 'मैं पूरी रात सो नहीं पाया और अगले ही दिन सुबह जम्मू के लिए निकल गया। सद्भाव और शांति के ढीले-ढाले बयान हैं, लेकिन सुरक्षा का कोई आश्वासन नहीं दिया गया है। अगर वे शिक्षकों के पास जा सकते हैं और उनके पहचान पत्र देखकर उन्हें मार सकते हैं, तो मेरे जैसे कश्मीरी पंडित कर्मचारियों की सुरक्षा की गारंटी कौन देगा?'

कश्मीर में जारी 'खूनी खेल' पर अमित शाह सख्त, घाटी में अब बड़े ऑपरेशन की तैयारी

कश्मीर से फिर गैर-मुस्लिमों का पलायन शुरू, क्या वापस होगा 1990 जैसा नरसंहार ?

जम्मू कश्मीर: डॉक्टर के घर हमले की खबर फर्जी, श्रीनगर पुलिस ने दी जानकारी

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -