लॉक डाउन के बाद फिर पटरी पर लौट रही ज़िंदगियाँ

लॉक डाउन के बाद फिर पटरी पर लौट रही ज़िंदगियाँ

मेरठ: देश भर में बढ़ते कोरोना वायरस के केस के बाद जारी किया गया लॉक डाउन का नियम कई स्थानों पर बेहद सख्ती बरती जा रही है, वहीं हर दिन कोरोना वायरस के कई नए मामले भी सामने आ रहे है, जिसके बाद से लोगों में इस बात को लेकर और भी डर बढ़ता जा रहा है, तो दूसरी तरफ इस वायरस ने अब एक बड़ी महामारी का रूप भी ले लिया है जिसके बाद के कई ऐसे मासूम परिवार भी है जिनके घरों में खाने की किल्लत बढ़ गई है, तो कई स्थानों पर लॉक डाउन में रियायत भी दी जा चुकी है. 

मेरठ में शुरू हुआ बसों का संचालन: मेरठ में 68 दिन बाद बसों का संचालन शुरू हुआ. हालांकि भैंसाली और सोहराबगेट अड्डे पर बहुत कम यात्री पहुंचे. कोरोना के चलते लोग यात्रा करने से कतरा रहे. यात्रियों के इंतजार में बसें खड़ी रहीं. 

सहारनपुर में पटरी पर लौटने लगी जिंदगी: लॉकडाउन के चौथे चरण के बाद अनलॉक वन के दौरान जिले के लोगों को पहले से कहीं अधिक रियायतें मिली हैं. अब जनपद में चार हॉटस्पॉट एरिया को छोड़कर बाकी जगहों पर लगभग सभी गतिविधियां संचालित होने लगी हैं. इनमें मुख्य रूप से जनशताब्दी, गोल्डन टेंपल सहित आठ ट्रेनों का संचालन शुरू हो गया है. रोडवेज बसों को भी जरूरत के मुताबिक चलाया जा रहा है. वहीं,फल और सब्जी मंडी के कारोबारियों को अब अंबाला हाईवे या अन्य अस्थायी स्थलों की ओर नहीं भटकना पड़ेगा. वे पुराने स्थल चिलकाना रोड पर ही कारोबार कर सकेंगे. हालांकि अधिक रियायतों के साथ ही कोरोना संक्रमण का खतरा भी बढ़ गया है.

मुजफ्फरनगर में दिखी चहल पहल: मुजफ्फरनगर में बसों और ट्रेनों का संचालन दो माह बाद शुरू हुआ. रोडवेज बस स्टैंड से अधिकांश मार्गों की बसें चली. थर्मल स्क्रीनिंग करा कर यात्रियों को बसों में सवार किया गया. पहले दिन कम ही यात्री यात्रा करने के लिए बस स्टैंड पर पहुंचे. उधर, देहरादून से चलकर दिल्ली जाने वाली जनशताब्दी ट्रेन भी स्टेशन पर पहुंची. दो माह बाद पहली यात्री ट्रेन यहां रुकी. बाजार खुलने पर काफी चहल-पहल देखने को मिली. हाईवे के रेस्टोरेंट भी खुल गए.

वाजिद खान के निधन से सदमे में है सेलेब्स, ट्वीट कर जताया दुःख

आखिरी बार वाजिद ने किया था सलमान खान का गाना भाई-भाई कंपोज

70 दिन बाद खुलेगा इंदौर, 80 फीसदी शहर को मिली राहत