कभी मस्जिद के बाहर भीख मांगते थे कादर खान, मरने के 5 दिन पहले ही छोड़ दिया था खाना

बॉलीवुड में अपने अभिनय से सभी का दिल जीतने वाले कादर खान का आज जन्मदिन है। आज भले ही कादर खान इस दुनिया में नहीं है लेकिन लोग उन्हें भुला नहीं पाए हैं। लोग आज भी कादर खान के फैन हैं और उन्हें बहुत प्यार देते हैं। कादर खान का जन्म 22 अक्टूबर, 1937 को अफगानिस्तान के काबुल में हुआ था। उन्होंने 31 दिसंबर 2018 को कनाडा के टोरंटो में अपनी अंतिम सांस ली। आप सभी को बता दें कि कादर ने अपने करियर की शुरुआत साल 1973 में आई फिल्म "दाग" से की थी। इस फिल्म के बाद वह कई दमदार फिल्मों में नजर आए। हालाँकि एक समय था जब वह कभी मस्जिद पर भीख मांग कर गुजारा किया करते थे।

जी दरअसल कादर खान से पहले उनकी मां के तीन बेटे हुए थे, लेकिन सभी की 8 साल की उम्र पूरी होते-होते मौत हो जाती थी। ऐसे में कादर के जन्म के बाद उनकी मां डर गई थीं, जिसके कारण उन्होंने भारत आने का फैसला किया और वह मुंबई आ गईं। वहीं जिस समय कादर एक साल के थे उस समय उनके माता-पिता का तलाक हो गया था। वहीं इसके बाद वह डोंगरी जाकर एक मस्जिद पर भीख मांगने लगे और दिन-भर में जो पैसे एक-दो रुपए मिलते थे उससे उनके घर में चूल्हा जलता था।

कुछ मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार कादर खान निधन के कुछ देर पहले ही कोमा में चले गए थे। उनकी मौत से पांच दिन पहले उन्होंने खाना खाया था और यह खाना कादर खान की बहू साहिस्ता यानी सरफराज की पत्नी ने बनाया था। उसके बाद उन्होंने अस्पताल का खाना खाने से मना कर दिया था। वहीं उस दौरान साहिस्ता ने उन्हें समझाया कि उनके लिए खाना बहुत जरूरी है लेकिन कादर कुछ भी खाने की हिम्मत नहीं जुटा पा रहे थे। वहीं कादर के एक दोस्त ने कहा था, 'वो एक असली पठान थे। 5 दिन तक उन्होंने ना कुछ खाया और ना पानी पिया। बावजूद इसके वो 120 घंटे तक जिंदगी से जंग लड़ते रहे। ये हर किसी के बस की बात नहीं थी।' कादर आज इस दुनिया में नहीं है लेकिन वह लोगों के दिलों में जिन्दा हैं।

बेटे आर्यन से मिलने के बाद शाहरुख़ ने जोड़े फैंस के हाथ, वीडियो वायरल

बेटे की हालत देख जोर-जोर से रोये शाहरुख़ खान, आर्यन बोले 'I AM SORRY पापा'

शेरनी और उधम सिंह को मिलेगा ऑस्कर! ऑस्कर 2022 के लिए हुईं शॉर्टलिस्ट

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -