हर दिन और भी हो जाता है खास जब चाय के साथ होती है दिन की शुरुआत

हर दिन आप सुबह उठकर जब दांत मांजकर मुंह धो लेते हैं और सुबह की ताज़गी में खुद को अंर्तमन से तरोताज़ा कर लेने की चाहत आपके दिल में उमंगे रखती हैं, ऐसे में सुबह का अख़बार भी तब तक पढ़ने में मज़ा नहीं आता है जब तक कि चाय की गरमा गर्म प्याली और महकती हुई कड़क चाय आपके पास न पहुंच जाऐ। जी हां, हम भारतीय तो इस मामले में ठेठ देसी हैं। यहां तो सर्दियों में भी तड़के 5 बजे उठने वालों को अदरक की खुशबूदार चाय की आवश्यकता होती है।

दरअसल भारत विश्व में चाय के उत्पादकों में एक महत्वपूर्ण स्थान रखता है यही नहीं यह चाय का सबसे बड़ा उपभोक्ता बाजार भी है। ऐसे में चाय का महत्व इस देश के लिए कहीं अधिक है। तो चाय की चुस्कियों के साथ ही लोग मन में यह कह उठते हैं तो उस्ताद कुछ ताज़ा हो जाए। कोई चाय के रंग को पसंद करता है तो कोई उसके कड़क असर को। मगर चाय सभी को लुभाती है।  चाय को लेकर एक दिलचस्प कथा प्रचलित है। जिसके तहत यह कहा जाता है कि एक बार एक महर्षि अपनी तपस्या कर रह रहे थे। वे तपस्या में लीन थे। इसी दौरान उनकी तपस्या भंग हुई उनकी आंख खुली तब उन्होंने अपनी आंख की पलक को अंगुलियों में पकड़कर आंख पूरी तरह से खोलने का प्रयास किया। ऐसे में उनकी अंगुलियों से कुछ कण छूटे जो कि धरती पर गिरते ही खुशबूदार चाय के तौर पर बदल गए। हालांकि यह केवल कहानी ही कही जाती है। 

चाय, अगर चाय ना होती तो आज हम भी ना होते, चाय का नाम सुनकर एक तलब सी लग जाती है उसे पीने की और चाय के बिना जीवन जीवन नहीं है. सर्दी से लेकर गर्मी, बरसात तक गर्म चाय की चुस्कियां सभी को अच्छी लगती है. ऐसे में अगर थकान मिटानी हो, नींद भगाना हो, खाना पचाना हो, ठंड भगाना हो, सर्दी जुकाम से छुटकारा पाना हो तो चाय का नाम ही सामने आता है और चाय मिलते ही सब दुःख-दर्द भूल जाते हैं. आज के समय में कई परिवारों में सिर दर्द जो होता है वो दवा से नहीं बल्कि चाय से खत्म होता है. वैसे आम लोगों ही नहीं डॉक्टरों के अनुसार भी चाय लाभकारी है.
 
जी हाँ, चाय में एंटी-ऑक्सिडेंट पॉलीफेनोल होता है जो एक इनफ्लेमेशन फाइटर का काम करता है. ऐसे में आज इंटरनेशनल टी डे है यानी चाय का दिन. वैसे तो चाय के लिए कोई दिन नहीं होता क्योंकि हम भारतीयों के लिए सुबह से लेकर रात तक में चाहे जितनी चाय दे दी जाए हम पी लेंगे. वैसे चाय के भी कई फ्लेवर होते हैं जिनमे ग्रीन टी, ब्लैक टी और नार्मल टी सबसे बेहतरीन मानी जाती है और बहुत कम लोग जानते हैं कि विभिन्न प्रकार के 15 अध्ययनों में पाया गया कि जो लोग 12 सप्ताह से अधिक समय तक दिन में दो से छह कप ग्रीन टी पीते हैं, उनके शरीर का वजन बाकी लोगों से कम होता है.

जी हाँ, इसी के साथ 40,000 से अधिक वयस्कों पर हुए एक अन्य अध्ययन में पाया गया कि नियमित रूप से चाय का सेवन हृदय रोग, स्ट्रोक और कुछ प्रकार के कैंसर से दूर रखता है. जी हाँ, कहते हैं जिन प्रतिभागियों ने प्रतिदिन पांच या अधिक कप ग्रीन टी पी थी, उनमें हार्ट अटैक का जोखिम 16% कम पाया गया. वहीं ग्रीन टी से डायबिटीज की जटिलताओं को कम करने में मदद मिलती है और चाय इन्सुलिन संवेदनशीलता में सुधार कर सकती है, अग्नाशय की कोशिकाओं को क्षति से बचा सकती है, और सूजन को कम कर सकती है और इसका फायदा डायबिटीज में मिलता है. इसके अलावा भी चाय के कई फायदे हैं जो आपको हैरान कर सकते हैं.

यमन ने हौथिस पर संघर्ष विराम के बावजूद तेल समृद्ध क्षेत्र पर हमला करने का आरोप लगाया

फिलिस्तीन ने इजरायली बसने वालों को अल-अक्सा का दौरा करने की अनुमति देने के खिलाफ चेतावनी दी

यून सुक-येओल, बिडेन पहले शिखर सम्मेलन के दौरान उत्तर कोरियाई पर चर्चा करेंगे

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -