एक बेटे का किया अंतिम संस्कार घर पहुंचते ही मिली दूसरे की लाश

कोविड की दूसरी लहर ने अब सिर्फ शहरों तक सीमित नहीं है। अब गांवों में भी कोविड ने पैर पसार लिए हैं और जैसी फोटोज देखने को मिली है, वो दिल दहला देने वाली हैं। जिस बात का अंदेशा प्रधानमंत्री मोदी से लेकर तमाम एक्सपर्ट को था, अब वो मंजर नज़र आ रहे है। हालात ऐसे हो गए हैं कि एक ही गांव में कई लोग कोविड से जान गवां रहे हैं। ताजा केस नोएडा वेस्ट के जलालपुर गांव का है जहां पर एक पिता ने अपने दोनों बच्चों को कोविड के कारण से खो दिया।

बेटे को मुखाग्नि देकर आए तो दूसरे की मिली घर में लाश: जंहा इस बात का पता चला है कि नोएडा वेस्ट के जलालपुर गांव मे एक बेटे को मुखाग्नि देकर श्मशान से लौटे पिता ने ख्वाब में भी नही सोचा होगा कि थोड़ी देर के उपरांत उन्हें दूसरे बेटे को भी कंधा देना होगा। लेकिन जो नहीं सोचा था, वहीं हुआ और पूरे परिवार पर दुखों का पहाड़ गिर पड़ा । जलालपुर गांव मे रहने वाले अतर सिंह के बेटे पंकज की अचानक जान चली गई। बेटे को मुखाग्नि देकर सभी घर पहुंचे ही थे कि दूसरे बेटे दीपक ने दम तोड़ दिया। वो भी कोविड से ही जंग लड़ रहा था। जवान बेटों का जनाजा देखने वाली मां पूरी तरफ से टूट गई हैं और निरंतर बेहोश हो रही हैं।

गांव में कोरोना का तांडव: मिली जानकरी के अनुसार जलालपुर गांव में ग्रामीणों ने कहा कि बीते 10 दिनों में गांव मे 6 महिलाओं सहित 18 लोगो की जाना जा चुकी है। जानकारी के मुताबिक 28 अप्रैल को गांव में ये मौतों का सिलसिला शुरू हुआ था जो अब तक जारी है। इसी गांव में ऋषि नागर की भी अचानक मौत हुई थी और उसी दिन उनके बेटे का भी देहांत हो चुका है। हैरानी की बात यह है कि गांव में ज्यादातर लोगों की मौत घरों मे हुई है। गांव वालों के मुताबिक सभी को पहले बुखार आया और ऑक्सीजन लेवल घटता चला गया। लगातार गांव मे हो रही मौतों से गांव वाले दहशत में हैं।

गाँव में कोरोना से लड़ने के लिए योगी सरकार ने बनाई 1,41,610 टीमें, WHO भी हुआ कायल

कोरोना काल के बीच आज से 27 हज़ार स्वास्थ्यकर्मियों की हड़ताल, मरीजों का हाल बेहाल

'कोरोना काल में आप फ्रंटलाइन पर क्यों नहीं ?', ट्रोलर को कुमार विश्वास ने दिया करारा जवाब

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -