नहीं पड़ेगी वेंटिलेटर की कमी, इस कंपनी को मिला बड़ा ठेका

भारत में महामारी को रोकने के लिए सरकार हर संभव प्रयास कर रही है. वही, वेंटीलेटर की देश में कमी दूर करने के लिए रक्षा मंत्रालय से जुड़ी सरकारी कंपनियों ने अपनी पूरी ताकत झोंक दी है. भारत इलेक्ट्रानिक्स लिमिटेड ने डीआरडीओ के डिजाइन किए वेंटीलेटर का देश में ही बड़ी संख्या में निर्माण शुरू कर दिया है. वेंटीलेटर बनाने की इस बड़ी पहल के आगाज के साथ ही बीइएल अगले दो महीने में ही 30,000 वेंटीलेटर बनाकर उसे स्वास्थ्य मंत्रालय को सौंप देगा.

जम्मू और कश्मीर : अब तक 106 लोग हुए संक्रमित, इतने नए मामले आए सामने

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि कोरोना महामारी से प्रभावित मरीजों की संख्या में इजाफे की आशंका को देखते हुए पूर्व तैयारी करते हुए स्वास्थ्य मंत्रालय ने रक्षा मंत्रालय से जुडी पीएसयू कंपनियों से वेंटीलेटर समेत कई दूसरे चिकित्सा व बचाव उपकरणों का निर्माण करने को कहा है. आइसीयू में कोरोना प्रभावित मरीजों की जीवन रक्षा के लिए स्वास्थ्य मंत्रालय बड़ी संख्या में वेंटीलेटर का प्रबंध कर रहा है.

मनरेगा मजदूरी बढ़ाने की जरुरत नहीं, श्रमिकों के खाते में नकद डाले सरकार

इस मामले को लेकर स्वास्थ्य मंत्रालय ने  बीइएल को यह जिम्मा दिया है जिसने डीआरडीओ द्वारा विकसित वेंटीलेटर का निर्माण अपनी इकाईयों में शुरू कर दिया है. डीआरडीओ के डिजाइन किए इस वेंटीलेटर में मैसूर की मेसर्स एसकैनरी ने कुछ सुधार किया था जिसका बीइएल के साथ गठबंधन है.

तब्लीग़ी जमात के खिलाफ बोलने पर युवक की गोली मारकर हत्या

यूपी के 877 धर्मगुरुओं के साथ सीएम योगी की वार्ता, कोरोना से जंग में मांगी मदद

केंद्रीय कैबिनेट सेक्रेटरी राजीव गौबा का बड़ा बयान, कहा- कोरोना से होगी लंबी लड़ाई

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -